hai azal ki is galat bakshi pe hairaani mujhe | है अज़ल की इस ग़लत बख़्शी पे हैरानी मुझे - Hafeez Jalandhari

hai azal ki is galat bakshi pe hairaani mujhe
ishq la-faani mila hai zindagi faani mujhe

main vo basti hoon ki yaad-e-raftagan ke bhes mein
dekhne aati hai ab meri hi veeraani mujhe

thi yahi tamheed mere maatami anjaam ki
phool hanste hain to hoti hai pasheemaani mujhe

husn be-parda hua jaata hai ya rab kya karoon
ab to karne hi padi dil ki nigahbaani mujhe

baandh kar roz-e-azl sheeraza-e-marg-o-hayaat
saunp di goya do aalam ki pareshaani mujhe

poochta firta tha daanaaon se ulfat ke rumooz
yaad ab rah rah ke aati hai vo nadaani mujhe

है अज़ल की इस ग़लत बख़्शी पे हैरानी मुझे
इश्क़ ला-फ़ानी मिला है ज़िंदगी फ़ानी मुझे

मैं वो बस्ती हूँ कि याद-ए-रफ़्तगाँ के भेस में
देखने आती है अब मेरी ही वीरानी मुझे

थी यही तम्हीद मेरे मातमी अंजाम की
फूल हँसते हैं तो होती है पशीमानी मुझे

हुस्न बे-पर्दा हुआ जाता है या रब क्या करूँ
अब तो करनी ही पड़ी दिल की निगहबानी मुझे

बाँध कर रोज़-ए-अज़ल शीराज़ा-ए-मर्ग-ओ-हयात
सौंप दी गोया दो आलम की परेशानी मुझे

पूछता फिरता था दानाओं से उल्फ़त के रुमूज़
याद अब रह रह के आती है वो नादानी मुझे

- Hafeez Jalandhari
0 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Jalandhari

As you were reading Shayari by Hafeez Jalandhari

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Jalandhari

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari