khauf ke sail-e-musalsal se nikale mujhe koi | ख़ौफ़ के सैल-ए-मुसलसल से निकाले मुझे कोई - Iftikhar Arif

khauf ke sail-e-musalsal se nikale mujhe koi
main payambar to nahin hoon ki bacha le mujhe koi

apni duniya ke mah-o-mehr samete sar-e-shaam
kar gaya jaada-e-farda ke hawaale mujhe koi

itni der aur tavakkuf ki ye aankhen bujh jaayen
kisi be-noor kharaabe mein ujaale mujhe koi

kis ko furqat hai ki ta'aamir kare az-sar-e-nau
khana-e-khwaab ke malbe se nikale mujhe koi

ab kahi ja ke sameti hai umeedon ki bisaat
warna ik umr ki zid thi ki sambhaale mujhe koi

kya ajab khema-e-jaan teri tanaabein kat jaayen
is se pehle ki hawaon mein uchaale mujhe koi

kaisi khwaahish thi ki socho to hasi aati hai
jaise main chaahoon usi tarah bana le mujhe koi

teri marzi meri taqdeer ki tanhaa rah jaaun
magar ik aas to de paalne waale mujhe koi

ख़ौफ़ के सैल-ए-मुसलसल से निकाले मुझे कोई
मैं पयम्बर तो नहीं हूँ कि बचा ले मुझे कोई

अपनी दुनिया के मह-ओ-मेहर समेटे सर-ए-शाम
कर गया जादा-ए-फ़र्दा के हवाले मुझे कोई

इतनी देर और तवक़्क़ुफ़ कि ये आँखें बुझ जाएँ
किसी बे-नूर ख़राबे में उजाले मुझे कोई

किस को फ़ुर्सत है कि ता'मीर करे अज़-सर-ए-नौ
ख़ाना-ए-ख़्वाब के मलबे से निकाले मुझे कोई

अब कहीं जा के समेटी है उमीदों की बिसात
वर्ना इक उम्र की ज़िद थी कि सँभाले मुझे कोई

क्या अजब ख़ेमा-ए-जाँ तेरी तनाबें कट जाएँ
इस से पहले कि हवाओं में उछाले मुझे कोई

कैसी ख़्वाहिश थी कि सोचो तो हँसी आती है
जैसे मैं चाहूँ उसी तरह बना ले मुझे कोई

तेरी मर्ज़ी मिरी तक़दीर कि तन्हा रह जाऊँ
मगर इक आस तो दे पालने वाले मुझे कोई

- Iftikhar Arif
0 Likes

Budhapa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Arif

As you were reading Shayari by Iftikhar Arif

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Arif

Similar Moods

As you were reading Budhapa Shayari Shayari