samajh rahe hain magar bolne ka yaara nahin | समझ रहे हैं मगर बोलने का यारा नहीं - Iftikhar Arif

samajh rahe hain magar bolne ka yaara nahin
jo ham se mil ke bichhad jaaye vo hamaara nahin

abhi se barf uljhane lagi hai baalon se
abhi to qarz-e-mah-o-saal bhi utaara nahin

bas ek shaam use awaaz di thi hijr ki shaam
phir us ke ba'ad use umr bhar pukaara nahin

hawa kuchh aisi chali hai ki tere wahshi ko
mizaaj-pursi-e-baad-e-saba gawara nahin

samundron ko bhi hairat hui ki doobte waqt
kisi ko ham ne madad ke liye pukaara nahin

vo ham nahin the to phir kaun tha sar-e-bazaar
jo kah raha tha ki bikna hamein gawara nahin

ham ahl-e-dil hain mohabbat ki nisbato'n ke ameen
hamaare paas zameenon ka goshwaaraa nahin

समझ रहे हैं मगर बोलने का यारा नहीं
जो हम से मिल के बिछड़ जाए वो हमारा नहीं

अभी से बर्फ़ उलझने लगी है बालों से
अभी तो क़र्ज़-ए-मह-ओ-साल भी उतारा नहीं

बस एक शाम उसे आवाज़ दी थी हिज्र की शाम
फिर उस के बा'द उसे उम्र भर पुकारा नहीं

हवा कुछ ऐसी चली है कि तेरे वहशी को
मिज़ाज-पुर्सी-ए-बाद-ए-सबा गवारा नहीं

समुंदरों को भी हैरत हुई कि डूबते वक़्त
किसी को हम ने मदद के लिए पुकारा नहीं

वो हम नहीं थे तो फिर कौन था सर-ए-बाज़ार
जो कह रहा था कि बिकना हमें गवारा नहीं

हम अहल-ए-दिल हैं मोहब्बत की निस्बतों के अमीन
हमारे पास ज़मीनों का गोश्वारा नहीं

- Iftikhar Arif
0 Likes

Awaaz Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Arif

As you were reading Shayari by Iftikhar Arif

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Arif

Similar Moods

As you were reading Awaaz Shayari Shayari