suraj naye baras ka mujhe jaise das gaya | सूरज नए बरस का मुझे जैसे डस गया - Iftikhar Naseem

suraj naye baras ka mujhe jaise das gaya
tujh se mile hue mujhe ye bhi baras gaya

bahti rahi nadi mere ghar ke qareeb se
paani ko dekhne ke liye main taras gaya

milne ki khwaahishein sabhi dam todti gaeein
dil mein kuchh aise khauf bichhadne ka bas gaya

deewaar o dar jhulaste rahe tez dhoop mein
baadal tamaam shehar se baahar baras gaya

talvon mein narm ghaas bhi chubhne lagi naseem
sehra kuchh is tarah mere pairo'n mein bas gaya

सूरज नए बरस का मुझे जैसे डस गया
तुझ से मिले हुए मुझे ये भी बरस गया

बहती रही नदी मिरे घर के क़रीब से
पानी को देखने के लिए मैं तरस गया

मिलने की ख़्वाहिशें सभी दम तोड़ती गईं
दिल में कुछ ऐसे ख़ौफ़ बिछड़ने का बस गया

दीवार ओ दर झुलसते रहे तेज़ धूप में
बादल तमाम शहर से बाहर बरस गया

तलवों में नर्म घास भी चुभने लगी 'नसीम'
सहरा कुछ इस तरह मिरे पैरों में बस गया

- Iftikhar Naseem
0 Likes

Nazakat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Naseem

As you were reading Shayari by Iftikhar Naseem

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Naseem

Similar Moods

As you were reading Nazakat Shayari Shayari