aaj muddat mein vo yaad aaye hain | आज मुद्दत में वो याद आए हैं - Jaan Nisar Akhtar

aaj muddat mein vo yaad aaye hain
dar o deewaar pe kuchh saaye hain

aabgeenon se na takra paaye
kohsaaron se to takraaye hain

zindagi tere hawadis ham ko
kuchh na kuchh raah pe le aaye hain

sang-rezon se khazf-paaron se
kitne heere kabhi chun laaye hain

itne mayus to haalaat nahin
log kis vaaste ghabraaye hain

un ki jaanib na kisi ne dekha
jo hamein dekh ke sharmaae hain

आज मुद्दत में वो याद आए हैं
दर ओ दीवार पे कुछ साए हैं

आबगीनों से न टकरा पाए
कोहसारों से तो टकराए हैं

ज़िंदगी तेरे हवादिस हम को
कुछ न कुछ राह पे ले आए हैं

संग-रेज़ों से ख़ज़फ़-पारों से
कितने हीरे कभी चुन लाए हैं

इतने मायूस तो हालात नहीं
लोग किस वास्ते घबराए हैं

उन की जानिब न किसी ने देखा
जो हमें देख के शरमाए हैं

- Jaan Nisar Akhtar
1 Like

Raasta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaan Nisar Akhtar

As you were reading Shayari by Jaan Nisar Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Jaan Nisar Akhtar

Similar Moods

As you were reading Raasta Shayari Shayari