khud-b-khud may hai ki sheeshe mein bhari aave hai | ख़ुद-ब-ख़ुद मय है कि शीशे में भरी आवे है - Jaan Nisar Akhtar

khud-b-khud may hai ki sheeshe mein bhari aave hai
kis bala ki tumhein jaadoo-nazri aave hai

dil mein dar aave hai har subh koi yaad aise
jun dabe-paav naseem-e-sehri aave hai

aur bhi zakham hue jaate hain gehre dil ke
ham to samjhe the tumhein charagari aave hai

ek qatra bhi lahu jab na rahe seene mein
tab kahi ishq mein kuchh be-jigri aave hai

chaak-e-daaman-o-girebaan ke bhi aadaab hain kuchh
har deewane ko kahaan jaama-dari aave hai

shajr-e-ishq to maange hai lahu ke aansu
tab kahi ja ke koi shaakh hari aave hai

tu kabhi raag kabhi rang kabhi khushboo hai
kaisi kaisi na tujhe ishwa-gari aave hai

aap-apne ko bhulaana koi aasaan nahin
badi mushkil se miyaan be-khabri aave hai

ai mere sheher-e-nigaaraan tira kya haal hua
chappe chappe pe mere aankh bhari aave hai

saahibo husn ki pehchaan koi khel nahin
dil lahu ho to kahi deeda-wari aave hai

ख़ुद-ब-ख़ुद मय है कि शीशे में भरी आवे है
किस बला की तुम्हें जादू-नज़री आवे है

दिल में दर आवे है हर सुब्ह कोई याद ऐसे
जूँ दबे-पाँव नसीम-ए-सहरी आवे है

और भी ज़ख़्म हुए जाते हैं गहरे दिल के
हम तो समझे थे तुम्हें चारागरी आवे है

एक क़तरा भी लहू जब न रहे सीने में
तब कहीं इश्क़ में कुछ बे-जिगरी आवे है

चाक-ए-दामाँ-ओ-गिरेबाँ के भी आदाब हैं कुछ
हर दिवाने को कहाँ जामा-दरी आवे है

शजर-ए-इश्क़ तो माँगे है लहू के आँसू
तब कहीं जा के कोई शाख़ हरी आवे है

तू कभी राग कभी रंग कभी ख़ुश्बू है
कैसी कैसी न तुझे इश्वा-गरी आवे है

आप-अपने को भुलाना कोई आसान नहीं
बड़ी मुश्किल से मियाँ बे-ख़बरी आवे है

ऐ मिरे शहर-ए-निगाराँ तिरा क्या हाल हुआ
चप्पे चप्पे पे मिरे आँख भरी आवे है

साहिबो हुस्न की पहचान कोई खेल नहीं
दिल लहू हो तो कहीं दीदा-वरी आवे है

- Jaan Nisar Akhtar
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaan Nisar Akhtar

As you were reading Shayari by Jaan Nisar Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Jaan Nisar Akhtar

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari