ek to nainaan kajraare aur tis par doobe kaajal mein | एक तो नैनाँ कजरारे और तिस पर डूबे काजल में - Jaan Nisar Akhtar

ek to nainaan kajraare aur tis par doobe kaajal mein
bijli ki badh jaaye chamak kuchh aur bhi gehre baadal mein

aaj zara lalchaai nazar se us ko bas kya dekh liya
pag-pag us ke dil ki dhadkan utri aaye paayal mein

pyaase pyaase nainaan us ke jaane pagli chahe kya
tat par jab bhi jaave soche nadiya bhar luun chaagal mein

subh nahaane judaa khole naag badan se aa lipatein
us ki rangat us ki khushboo kitni milti sandal mein

gori is sansaar mein mujh ko aisa tera roop lage
jaise koi deep jala ho ghor andhere jungle mein

pyaar ki yun har boond jala di main ne apne seene mein
jaise koi jaltee maachis daal de pee kar bottle mein

aaj pata kya kaun se lamhe kaun sa toofaan jaag uthe
jaane kitni dard ki sadiyaan goonj rahi hain pal pal mein

एक तो नैनाँ कजरारे और तिस पर डूबे काजल में
बिजली की बढ़ जाए चमक कुछ और भी गहरे बादल में

आज ज़रा ललचाई नज़र से उस को बस क्या देख लिया
पग-पग उस के दिल की धड़कन उतरी आए पायल में

प्यासे प्यासे नैनाँ उस के जाने पगली चाहे क्या
तट पर जब भी जावे सोचे नदिया भर लूँ छागल में

सुब्ह नहाने जूड़ा खोले नाग बदन से आ लिपटें
उस की रंगत उस की ख़ुश्बू कितनी मिलती संदल में

गोरी इस संसार में मुझ को ऐसा तेरा रूप लगे
जैसे कोई दीप जला हो घोर अँधेरे जंगल में

प्यार की यूँ हर बूँद जला दी मैं ने अपने सीने में
जैसे कोई जलती माचिस डाल दे पी कर बोतल में

आज पता क्या कौन से लम्हे कौन सा तूफ़ाँ जाग उठे
जाने कितनी दर्द की सदियाँ गूँज रही हैं पल पल में

- Jaan Nisar Akhtar
0 Likes

Kamar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaan Nisar Akhtar

As you were reading Shayari by Jaan Nisar Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Jaan Nisar Akhtar

Similar Moods

As you were reading Kamar Shayari Shayari