har ek rooh mein ik gham chhupa lage hai mujhe | हर एक रूह में इक ग़म छुपा लगे है मुझे - Jaan Nisar Akhtar

har ek rooh mein ik gham chhupa lage hai mujhe
ye zindagi to koi bad-dua lage hai mujhe

pasand-e-khaatir-e-ahl-e-wafa hai muddat se
ye dil ka daagh jo khud bhi bhala lage hai mujhe

jo aansuon mein kabhi raat bheeg jaati hai
bahut qareeb vo aawaaz-e-paa lage hai mujhe

main so bhi jaaun to kya meri band aankhon mein
tamaam raat koi jhaankta lage hai mujhe

main jab bhi us ke khayaalon mein kho sa jaata hoon
vo khud bhi baat kare to bura lage hai mujhe

main sochta tha ki lautunga ajnabi ki tarah
ye mera gaav to pahchaanta lage hai mujhe

na jaane waqt ki raftaar kya dikhaati hai
kabhi kabhi to bada khauf sa lage hai mujhe

bikhar gaya hai kuchh is tarah aadmi ka vujood
har ek fard koi saanehaa lage hai mujhe

ab ek aadh qadam ka hisaab kya rakhiye
abhi talak to wahi fasla lage hai mujhe

hikaayat-e-gham-e-dil kuchh kashish to rakhti hai
zamaana ghaur se sunta hua lage hai mujhe

हर एक रूह में इक ग़म छुपा लगे है मुझे
ये ज़िंदगी तो कोई बद-दुआ लगे है मुझे

पसंद-ए-ख़ातिर-ए-अहल-ए-वफ़ा है मुद्दत से
ये दिल का दाग़ जो ख़ुद भी भला लगे है मुझे

जो आँसुओं में कभी रात भीग जाती है
बहुत क़रीब वो आवाज़-ए-पा लगे है मुझे

मैं सो भी जाऊँ तो क्या मेरी बंद आँखों में
तमाम रात कोई झाँकता लगे है मुझे

मैं जब भी उस के ख़यालों में खो सा जाता हूँ
वो ख़ुद भी बात करे तो बुरा लगे है मुझे

मैं सोचता था कि लौटूँगा अजनबी की तरह
ये मेरा गाँव तो पहचानता लगे है मुझे

न जाने वक़्त की रफ़्तार क्या दिखाती है
कभी कभी तो बड़ा ख़ौफ़ सा लगे है मुझे

बिखर गया है कुछ इस तरह आदमी का वजूद
हर एक फ़र्द कोई सानेहा लगे है मुझे

अब एक आध क़दम का हिसाब क्या रखिए
अभी तलक तो वही फ़ासला लगे है मुझे

हिकायत-ए-ग़म-ए-दिल कुछ कशिश तो रखती है
ज़माना ग़ौर से सुनता हुआ लगे है मुझे

- Jaan Nisar Akhtar
0 Likes

Gham Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaan Nisar Akhtar

As you were reading Shayari by Jaan Nisar Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Jaan Nisar Akhtar

Similar Moods

As you were reading Gham Shayari Shayari