zara si baat pe har rasm tod aaya tha | ज़रा सी बात पे हर रस्म तोड़ आया था - Jaan Nisar Akhtar

zara si baat pe har rasm tod aaya tha
dil-e-tabah ne bhi kya mizaaj paaya tha

guzar gaya hai koi lamha-e-sharar ki tarah
abhi to main use pehchaan bhi na paaya tha

muaaf kar na saki meri zindagi mujh ko
vo ek lamha ki main tujh se tang aaya tha

shagufta phool simat kar kali bane jaise
kuchh is kamaal se tu ne badan churaaya tha

pata nahin ki mere baad un pe kya guzri
main chand khwaab zamaane mein chhod aaya tha

ज़रा सी बात पे हर रस्म तोड़ आया था
दिल-ए-तबाह ने भी क्या मिज़ाज पाया था

गुज़र गया है कोई लम्हा-ए-शरर की तरह
अभी तो मैं उसे पहचान भी न पाया था

मुआफ़ कर न सकी मेरी ज़िंदगी मुझ को
वो एक लम्हा कि मैं तुझ से तंग आया था

शगुफ़्ता फूल सिमट कर कली बने जैसे
कुछ इस कमाल से तू ने बदन चुराया था

पता नहीं कि मिरे बाद उन पे क्या गुज़री
मैं चंद ख़्वाब ज़माने में छोड़ आया था

- Jaan Nisar Akhtar
1 Like

Eid Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaan Nisar Akhtar

As you were reading Shayari by Jaan Nisar Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Jaan Nisar Akhtar

Similar Moods

As you were reading Eid Shayari Shayari