khwaab ke gaav mein pale hain ham | ख़्वाब के गाँव में पले हैं हम - Javed Akhtar

khwaab ke gaav mein pale hain ham
paani chhalni mein le chale hain ham

chaach phoonken ki apne bachpan mein
doodh se kis tarah jale hain ham

khud hain apne safar ki dushwaari
apne pairo'n ke aable hain ham

tu to mat kah hamein bura duniya
tu ne dhaala hai aur dhale hain ham

kyun hain kab tak hain kis ki khaatir hain
bade sanjeeda masale hain ham

ख़्वाब के गाँव में पले हैं हम
पानी छलनी में ले चले हैं हम

छाछ फूँकें कि अपने बचपन में
दूध से किस तरह जले हैं हम

ख़ुद हैं अपने सफ़र की दुश्वारी
अपने पैरों के आबले हैं हम

तू तो मत कह हमें बुरा दुनिया
तू ने ढाला है और ढले हैं हम

क्यूँ हैं कब तक हैं किस की ख़ातिर हैं
बड़े संजीदा मसअले हैं हम

- Javed Akhtar
3 Likes

Fantasy Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Javed Akhtar

As you were reading Shayari by Javed Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Javed Akhtar

Similar Moods

As you were reading Fantasy Shayari Shayari