dard ke phool bhi khilte hain bikhar jaate hain | दर्द के फूल भी खिलते हैं बिखर जाते हैं - Javed Akhtar

dard ke phool bhi khilte hain bikhar jaate hain
zakham kaise bhi hon kuch roz mein bhar jaate hain

raasta roke khadi hai yahi uljhan kab se
koi pooche to kahein kya ki kidhar jaate hain

chat ki kadiyon se utarte hain mere khwaab magar
meri deewaron se takra ke bikhar jaate hain

narm alfaaz bhali baatein mohazzab lehje
pehli baarish hi mein ye rang utar jaate hain

us dariche mein bhi ab koi nahin aur hum bhi
sar jhukaaye hue chup-chaap guzar jaate hain

दर्द के फूल भी खिलते हैं बिखर जाते हैं
ज़ख़्म कैसे भी हों कुछ रोज़ में भर जाते हैं

रास्ता रोके खड़ी है यही उलझन कब से
कोई पूछे तो कहें क्या कि किधर जाते हैं

छत की कड़ियों से उतरते हैं मिरे ख़्वाब मगर
मेरी दीवारों से टकरा के बिखर जाते हैं

नर्म अल्फ़ाज़ भली बातें मोहज़्ज़ब लहजे
पहली बारिश ही में ये रंग उतर जाते हैं

उस दरीचे में भी अब कोई नहीं और हम भी
सर झुकाए हुए चुप-चाप गुज़र जाते हैं

- Javed Akhtar
11 Likes

Raasta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Javed Akhtar

As you were reading Shayari by Javed Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Javed Akhtar

Similar Moods

As you were reading Raasta Shayari Shayari