jo baat kahte darte hain sab tu woh baat likh | जो बात कहते डरते हैं सब, तू वह बात लिख - Javed Akhtar

jo baat kahte darte hain sab tu woh baat likh
itni andheri thi na kabhi pehle raat likh

jinse qaside likhe the woh fenk de qalam
phir khoon-e-dil se sacche qalam ki sifaat likh

jo roznaamon mein kahi paati nahin jagah
jo roz har jagah ki hai woh waardaat likh

jitne bhi tang daayre hain saare tod de
ab aa khuli fizaon mein ab kaaynaat likh

jo waqiaat ho gaye unka to zikr hai
lekin jo hone chahiye woh waqiaat likh

is baagh mein jo dekhni hai tujh ko phir bahaar
tu daal-daal se sada tu paat-paat likh

जो बात कहते डरते हैं सब, तू वह बात लिख
इतनी अंधेरी थी न कभी पहले रात लिख

जिनसे क़सीदे लिखे थे, वह फेंक दे क़लम
फिर खून-ए-दिल से सच्चे क़लम की सिफ़ात लिख

जो रोज़नामों में कहीं पाती नहीं जगह
जो रोज़ हर जगह की है, वह वारदात लिख

जितने भी तंग दायरे हैं सारे तोड़ दे
अब आ खुली फ़िज़ाओं में अब कायनात लिख

जो वाक़ियात हो गए उनका तो ज़िक्र है
लेकिन जो होने चाहिए वह वाक़ियात लिख

इस बाग़ में जो देखनी है तुझ को फिर बहार
तू डाल-डाल से सदा, तू पात-पात लिख

- Javed Akhtar
10 Likes

Baaten Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Javed Akhtar

As you were reading Shayari by Javed Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Javed Akhtar

Similar Moods

As you were reading Baaten Shayari Shayari