ik lafz-e-mohabbat ka adnaa ye fasana hai | इक लफ़्ज़-ए-मोहब्बत का अदना ये फ़साना है - Jigar Moradabadi

ik lafz-e-mohabbat ka adnaa ye fasana hai
simte to dil-e-aashiq phaile to zamaana hai

ye kis ka tasavvur hai ye kis ka fasana hai
jo ashk hai aankhon mein tasbeeh ka daana hai

dil sang-e-malaamat ka har-chand nishaana hai
dil phir bhi mera dil hai dil hi to zamaana hai

hum ishq ke maaron ka itna hi fasana hai
rone ko nahin koi hansne ko zamaana hai

vo aur wafa-dushman maanenge na maana hai
sab dil ki sharaarat hai aankhon ka bahaana hai

shaair hoon main shaair hoon mera hi zamaana hai
fitrat mera aaina qudrat mera shaana hai

jo un pe guzarti hai kis ne use jaana hai
apni hi museebat hai apna hi fasana hai

kya husn ne samjha hai kya ishq ne jaana hai
hum khaak-nasheenon ki thokar mein zamaana hai

aaghaaz-e-mohabbat hai aana hai na jaana hai
ashkon ki hukoomat hai aahon ka zamaana hai

aankhon mein nami si hai chup chup se vo baithe hain
naazuk si nigaahon mein naazuk sa fasana hai

hum dard-b-dil naalaan vo dast-b-dil hairaan
ai ishq to kya zalim tera hi zamaana hai

ya vo the khafa hum se ya hum hain khafa un se
kal un ka zamaana tha aaj apna zamaana hai

ai ishq-e-junoon-pesha haan ishq-e-junoon-pesha
aaj ek sitamgar ko hans hans ke rulaana hai

thodi si ijaazat bhi ai bazm-gah-e-hasti
aa nikle hain dam-bhar ko rona hai rulaana hai

ye ishq nahin aasaan itna hi samajh lijye
ik aag ka dariya hai aur doob ke jaana hai

khud husn-o-shabaab un ka kya kam hai raqeeb apna
jab dekhiye ab vo hain aaina hai shaana hai

tasveer ke do rukh hain jaan aur gham-e-jaanaan
ik naqsh chhupaana hai ik naqsh dikhaana hai

ye husn-o-jamaal un ka ye ishq-o-shabaab apna
jeene ki tamannaa hai marne ka zamaana hai

mujh ko isee dhun mein hai har lahza basar karna
ab aaye vo ab aaye laazim unhen aana hai

khuddaari-o-mahroomi mahroomi-o-khuddaari
ab dil ko khuda rakhe ab dil ka zamaana hai

ashkon ke tabassum mein aahon ke tarannum mein
ma'soom mohabbat ka ma'soom fasana hai

aansu to bahut se hain aankhon mein jigar lekin
bandh jaaye so moti hai rah jaaye so daana hai

इक लफ़्ज़-ए-मोहब्बत का अदना ये फ़साना है
सिमटे तो दिल-ए-आशिक़ फैले तो ज़माना है

ये किस का तसव्वुर है ये किस का फ़साना है
जो अश्क है आँखों में तस्बीह का दाना है

दिल संग-ए-मलामत का हर-चंद निशाना है
दिल फिर भी मिरा दिल है दिल ही तो ज़माना है

हम इश्क़ के मारों का इतना ही फ़साना है
रोने को नहीं कोई हँसने को ज़माना है

वो और वफ़ा-दुश्मन मानेंगे न माना है
सब दिल की शरारत है आँखों का बहाना है

शाइर हूँ मैं शाइर हूँ मेरा ही ज़माना है
फ़ितरत मिरा आईना क़ुदरत मिरा शाना है

जो उन पे गुज़रती है किस ने उसे जाना है
अपनी ही मुसीबत है अपना ही फ़साना है

क्या हुस्न ने समझा है क्या इश्क़ ने जाना है
हम ख़ाक-नशीनों की ठोकर में ज़माना है

आग़ाज़-ए-मोहब्बत है आना है न जाना है
अश्कों की हुकूमत है आहों का ज़माना है

आँखों में नमी सी है चुप चुप से वो बैठे हैं
नाज़ुक सी निगाहों में नाज़ुक सा फ़साना है

हम दर्द-ब-दिल नालाँ वो दस्त-ब-दिल हैराँ
ऐ इश्क़ तो क्या ज़ालिम तेरा ही ज़माना है

या वो थे ख़फ़ा हम से या हम हैं ख़फ़ा उन से
कल उन का ज़माना था आज अपना ज़माना है

ऐ इश्क़-ए-जुनूँ-पेशा हाँ इश्क़-ए-जुनूँ-पेशा
आज एक सितमगर को हँस हँस के रुलाना है

थोड़ी सी इजाज़त भी ऐ बज़्म-गह-ए-हस्ती
आ निकले हैं दम-भर को रोना है रुलाना है

ये इश्क़ नहीं आसाँ इतना ही समझ लीजे
इक आग का दरिया है और डूब के जाना है

ख़ुद हुस्न-ओ-शबाब उन का क्या कम है रक़ीब अपना
जब देखिए अब वो हैं आईना है शाना है

तस्वीर के दो रुख़ हैं जाँ और ग़म-ए-जानाँ
इक नक़्श छुपाना है इक नक़्श दिखाना है

ये हुस्न-ओ-जमाल उन का ये इश्क़-ओ-शबाब अपना
जीने की तमन्ना है मरने का ज़माना है

मुझ को इसी धुन में है हर लहज़ा बसर करना
अब आए वो अब आए लाज़िम उन्हें आना है

ख़ुद्दारी-ओ-महरूमी महरूमी-ओ-ख़ुद्दारी
अब दिल को ख़ुदा रक्खे अब दिल का ज़माना है

अश्कों के तबस्सुम में आहों के तरन्नुम में
मा'सूम मोहब्बत का मा'सूम फ़साना है

आँसू तो बहुत से हैं आँखों में 'जिगर' लेकिन
बंध जाए सो मोती है रह जाए सो दाना है

- Jigar Moradabadi
4 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jigar Moradabadi

As you were reading Shayari by Jigar Moradabadi

Similar Writers

our suggestion based on Jigar Moradabadi

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari