jab hamein masjid jaana pada hai | जब हमें मस्जिद जाना पड़ा है - Kaif Bhopali

jab hamein masjid jaana pada hai
raah mein ik may-khaana pada hai

jaaie ab kyun jaanib-e-sehra
shehar to khud veeraana pada hai

ham na piyeinge bheek ki saaqi
le ye tira paimaana pada hai

harj na ho to dekhte chaliye
raah mein ik deewaana pada hai

khatm hui sab raat ki mehfil
ek par-e-parwaana pada hai

जब हमें मस्जिद जाना पड़ा है
राह में इक मय-ख़ाना पड़ा है

जाइए अब क्यूँ जानिब-ए-सहरा
शहर तो ख़ुद वीराना पड़ा है

हम न पिएँगे भीक की साक़ी
ले ये तिरा पैमाना पड़ा है

हर्ज न हो तो देखते चलिए
राह में इक दीवाना पड़ा है

ख़त्म हुई सब रात की महफ़िल
एक पर-ए-परवाना पड़ा है

- Kaif Bhopali
2 Likes

Shehar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaif Bhopali

As you were reading Shayari by Kaif Bhopali

Similar Writers

our suggestion based on Kaif Bhopali

Similar Moods

As you were reading Shehar Shayari Shayari