dhadakta jaata hai dil muskuraane waalon ka | धड़कता जाता है दिल मुस्कुराने वालों का - Kaleem Aajiz

dhadakta jaata hai dil muskuraane waalon ka
utha nahin hai abhi e'tibaar naalon ka

ye mukhtasar si hai rudaad-e-subh-e-may-khaana
zameen pe dher tha toote hue piyaalon ka

ye khauf hai ki saba ladkhada ke gir na pade
payaam le ke chali hai shikasta-haalon ka

na aayein ahl-e-khirad vaadi-e-junoon ki taraf
yahan guzar nahin daaman bachaane waalon ka

lipt lipt ke gale mil rahe the khanjar se
bade gazab ka kaleja tha marne waalon ka

धड़कता जाता है दिल मुस्कुराने वालों का
उठा नहीं है अभी ए'तिबार नालों का

ये मुख़्तसर सी है रूदाद-ए-सुब्ह-ए-मय-ख़ाना
ज़मीं पे ढेर था टूटे हुए पियालों का

ये ख़ौफ़ है कि सबा लड़खड़ा के गिर न पड़े
पयाम ले के चली है शिकस्ता-हालों का

न आएँ अहल-ए-ख़िरद वादी-ए-जुनूँ की तरफ़
यहाँ गुज़र नहीं दामन बचाने वालों का

लिपट लिपट के गले मिल रहे थे ख़ंजर से
बड़े ग़ज़ब का कलेजा था मरने वालों का

- Kaleem Aajiz
0 Likes

Dar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaleem Aajiz

As you were reading Shayari by Kaleem Aajiz

Similar Writers

our suggestion based on Kaleem Aajiz

Similar Moods

As you were reading Dar Shayari Shayari