kya gham hai agar shikwa-e-gham aam hai pyaare | क्या ग़म है अगर शिकवा-ए-ग़म आम है प्यारे - Kaleem Aajiz

kya gham hai agar shikwa-e-gham aam hai pyaare
tu dil ko dukha tera yahi kaam hai pyaare

tere hi tabassum ka sehar naam hai pyaare
tu khol de gesu to abhi shaam hai pyaare

is waqt tira jaan-e-jahaan naam hai pyaare
jo kaam tu kar de vo bada kaam hai pyaare

jab pyaar kiya chain se kya kaam hai pyaare
is mein to tadapne hi mein aaraam hai pyaare

chhooti hai na chhootegi kabhi pyaar ki aadat
main khoob samajhta hoon jo anjaam hai pyaare

ai kaash meri baat samajh mein tiri aaye
meri jo ghazal hai mera paighaam hai pyaare

main hoon jahaan sau fikr mein sau ranj mein sau dard
tu hai jahaan aaraam hi aaraam hai pyaare

go main ne kabhi apni zabaan par nahin laaya
sab jaan rahe hain tira kya naam hai pyaare

hum dil ko laga kar bhi khatkate hain dilon mein
tu dil ko dikha kar bhi dil-aaraam hai pyaare

kehta hoon ghazal aur raha karta hoon sarshaar
mera yahi sheesha hai yahi jaam hai pyaare

क्या ग़म है अगर शिकवा-ए-ग़म आम है प्यारे
तू दिल को दुखा तेरा यही काम है प्यारे

तेरे ही तबस्सुम का सहर नाम है प्यारे
तू खोल दे गेसू तो अभी शाम है प्यारे

इस वक़्त तिरा जान-ए-जहाँ नाम है प्यारे
जो काम तू कर दे वो बड़ा काम है प्यारे

जब प्यार किया चैन से क्या काम है प्यारे
इस में तो तड़पने ही में आराम है प्यारे

छूटी है न छूटेगी कभी प्यार की आदत
मैं ख़ूब समझता हूँ जो अंजाम है प्यारे

ऐ काश मिरी बात समझ में तिरी आए
मेरी जो ग़ज़ल है मिरा पैग़ाम है प्यारे

मैं हूँ जहाँ सौ फ़िक्र में सौ रंज में सौ दर्द
तू है जहाँ आराम ही आराम है प्यारे

गो मैं ने कभी अपनी ज़बाँ पर नहीं लाया
सब जान रहे हैं तिरा क्या नाम है प्यारे

हम दिल को लगा कर भी खटकते हैं दिलों में
तू दिल को दिखा कर भी दिल-आराम है प्यारे

कहता हूँ ग़ज़ल और रहा करता हूँ सरशार
मेरा यही शीशा है यही जाम है प्यारे

- Kaleem Aajiz
1 Like

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaleem Aajiz

As you were reading Shayari by Kaleem Aajiz

Similar Writers

our suggestion based on Kaleem Aajiz

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari