imtihaan-e-shauq mein saabit-qadam hota nahin | इम्तिहान-ए-शौक़ में साबित-क़दम होता नहीं - Kaleem Aajiz

imtihaan-e-shauq mein saabit-qadam hota nahin
ishq jab tak waakif-e-aadaab-e-gham hota nahin

un ki khaatir se kabhi ham muskuraa utthe to kya
muskuraa lene se dil ka dard kam hota nahin

jo sitam ham par hai us ki nauiyat kuchh aur hai
warna kis par aaj duniya mein sitam hota nahin

tum jahaan ho bazm bhi hai sham'a bhi parwaana bhi
ham jahaan hote hain ye saamaan bahm hota nahin

raat bhar hoti hain kya kya anjuman-aaraaiyaan
sham'a ka koi shareek-e-subh-e-gham hota nahin

maangata hai ham se saaqi qatre qatre ka hisaab
gair se koi hisaab-e-besh-o-kam hota nahin

इम्तिहान-ए-शौक़ में साबित-क़दम होता नहीं
इश्क़ जब तक वाक़िफ़-ए-आदाब-ए-ग़म होता नहीं

उन की ख़ातिर से कभी हम मुस्कुरा उट्ठे तो क्या
मुस्कुरा लेने से दिल का दर्द कम होता नहीं

जो सितम हम पर है उस की नौइयत कुछ और है
वर्ना किस पर आज दुनिया में सितम होता नहीं

तुम जहाँ हो बज़्म भी है शम्अ' भी परवाना भी
हम जहाँ होते हैं ये सामाँ बहम होता नहीं

रात भर होती हैं क्या क्या अंजुमन-आराइयाँ
शम्अ' का कोई शरीक-ए-सुब्ह-ए-ग़म होता नहीं

माँगता है हम से साक़ी क़तरे क़तरे का हिसाब
ग़ैर से कोई हिसाब-ए-बेश-ओ-कम होता नहीं

- Kaleem Aajiz
0 Likes

Valentine Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaleem Aajiz

As you were reading Shayari by Kaleem Aajiz

Similar Writers

our suggestion based on Kaleem Aajiz

Similar Moods

As you were reading Valentine Shayari Shayari