is paar main hoon jheel ke us paar aap hain | इस पार मैं हूँ झील के उस पार आप हैं - Kashif Sayyed

is paar main hoon jheel ke us paar aap hain
lehron ke aainon mein lagaataar aap hain

ai kaash vo ye poochen tumhein kya pasand hai
be-saakhta main kah padhoon sarkaar aap hain


uski khamoshiyon ki balaagat na poochiye

jiske lab-e-khamosh ka izhaar aap hain
ab ehtiraam karne lage mera saare gham

kisne bata diya mere gham-khwaar aap hain
kaliyon ke lab pe sajti hai muskaan aap ki

har mausam-e-bahaar ka singaar aap hain

इस पार मैं हूँ झील के उस पार आप हैं
लहरों के आइनों में लगातार आप हैं

ऐ काश वो ये पूछें तुम्हें क्या पसंद है
बे-साख़्ता मैं कह पड़ूँ सरकार आप हैं


उसकी ख़मोशियों की बलागत न पूछिए

जिसके लब-ए-ख़मोश का इज़हार आप हैं
अब एहतिराम करने लगे मेरा सारे ग़म

किसने बता दिया मेरे ग़म-ख़्वार आप हैं
कलियों के लब पे सजती है मुस्कान आप की

हर मौसम-ए-बहार का सिंगार आप हैं

- Kashif Sayyed
6 Likes

Politics Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kashif Sayyed

As you were reading Shayari by Kashif Sayyed

Similar Writers

our suggestion based on Kashif Sayyed

Similar Moods

As you were reading Politics Shayari Shayari