husn jab meherbaan ho to kya kijie | हुस्न जब मेहरबाँ हो तो क्या कीजिए - Khumar Barabankvi

husn jab meherbaan ho to kya kijie
ishq ke maghfirat kii dua kijie

is saleeqe se un se gila kijie
jab gila kijie hans diya kijie

doosron par agar tabsira kijie
saamne aaina rakh liya kijie

aap sukh se hain tark-e-ta'alluq ke ba'ad
itni jaldi na ye faisla kijie

zindagi kat rahi hai bade chain se
aur gham hon to vo bhi ata kijie

koii dhoka na kha jaaye meri tarah
aise khul ke na sab se mila kijie

aql o dil apni apni kahein jab khumaar
aql kii suniye dil ka kaha kijie

हुस्न जब मेहरबाँ हो तो क्या कीजिए
इश्क़ के मग़्फ़िरत की दुआ कीजिए

इस सलीक़े से उन से गिला कीजिए
जब गिला कीजिए हँस दिया कीजिए

दूसरों पर अगर तब्सिरा कीजिए
सामने आइना रख लिया कीजिए

आप सुख से हैं तर्क-ए-तअ'ल्लुक़ के बा'द
इतनी जल्दी न ये फ़ैसला कीजिए

ज़िंदगी कट रही है बड़े चैन से
और ग़म हों तो वो भी अता कीजिए

कोई धोका न खा जाए मेरी तरह
ऐसे खुल के न सब से मिला कीजिए

अक़्ल ओ दिल अपनी अपनी कहें जब 'ख़ुमार'
अक़्ल की सुनिए दिल का कहा कीजिए

- Khumar Barabankvi
0 Likes

Dua Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Khumar Barabankvi

As you were reading Shayari by Khumar Barabankvi

Similar Writers

our suggestion based on Khumar Barabankvi

Similar Moods

As you were reading Dua Shayari Shayari