haalaanki pehle din se kaha ja raha hoon main | हालाँकि पहले दिन से कहा जा रहा हूँ मैं - Liaqat Jafri

haalaanki pehle din se kaha ja raha hoon main
lekin kahaan kisi ko suna ja raha hoon main

laachaar o bad-havaas ghane junglon ke beech
dariya ke saath saath chala ja raha hoon main

pachta rahe hain sab mera pinjar nikaal kar
deewaar mein dobara chuna ja raha hoon main

haalaanki pehle saaye se rahti thi kashmakash
ab apne bojh se hi daba ja raha hoon main

tere sambhaalne se bhi pakadi na main ne aag
ab aur bhi ziyaada bujha ja raha hoon main

pahle-pahl to khud se hi mansoob the ye ashk
ab us ki aankh se bhi baha ja raha hoon main

ye din bhi kaisa sakht shikanja hai jafari
ab jis pe saari raat kasa ja raha hoon main

हालाँकि पहले दिन से कहा जा रहा हूँ मैं
लेकिन कहाँ किसी को सुना जा रहा हूँ मैं

लाचार ओ बद-हवास घने जंगलों के बीच
दरिया के साथ साथ चला जा रहा हूँ मैं

पछता रहे हैं सब मिरा पिंजर निकाल कर
दीवार में दोबारा चुना जा रहा हूँ मैं

हालाँकि पहले साए से रहती थी कश्मकश
अब अपने बोझ से ही दबा जा रहा हूँ मैं

तेरे सँभालने से भी पकड़ी न मैं ने आग
अब और भी ज़ियादा बुझा जा रहा हूँ मैं

पहले-पहल तो ख़ुद से ही मंसूब थे ये अश्क
अब उस की आँख से भी बहा जा रहा हूँ मैं

ये दिन भी कैसा सख़्त शिकंजा है 'जाफ़री'
अब जिस पे सारी रात कसा जा रहा हूँ मैं

- Liaqat Jafri
0 Likes

Raat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Liaqat Jafri

As you were reading Shayari by Liaqat Jafri

Similar Writers

our suggestion based on Liaqat Jafri

Similar Moods

As you were reading Raat Shayari Shayari