har ek lamha meri aag mein guzaare koi | हर एक लम्हा मिरी आग में गुज़ारे कोई - Madan Mohan Danish

har ek lamha meri aag mein guzaare koi
phir us ke ba'ad mujhe ishq mein utaare koi

main apni goonj ko mehsoos karna chahta hoon
utar ke mujh mein mujhe zor se pukaare koi

ab aarzoo hai vo har shay mein jagmagane lage
bas ek chehre mein kab tak use nihaare koi

falak pe chaand-sitaare tange hain sadiyon se
main chahta hoon zameen par inhen utaare koi

hai dukh to kah do kisi ped se parinde se
ab aadmi ka bharosa nahin hai pyaare koi

हर एक लम्हा मिरी आग में गुज़ारे कोई
फिर उस के बा'द मुझे इश्क़ में उतारे कोई

मैं अपनी गूँज को महसूस करना चाहता हूँ
उतर के मुझ में मुझे ज़ोर से पुकारे कोई

अब आरज़ू है वो हर शय में जगमगाने लगे
बस एक चेहरे में कब तक उसे निहारे कोई

फ़लक पे चांद-सितारे टँगे हैं सदियों से
मैं चाहता हूँ ज़मीं पर इन्हें उतारे कोई

है दुख तो कह दो किसी पेड़ से परिंदे से
अब आदमी का भरोसा नहीं है प्यारे कोई

- Madan Mohan Danish
3 Likes

Gham Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Madan Mohan Danish

As you were reading Shayari by Madan Mohan Danish

Similar Writers

our suggestion based on Madan Mohan Danish

Similar Moods

As you were reading Gham Shayari Shayari