hai intizaar muqaddar to intizaar karo | है इंतिज़ार मुक़द्दर तो इंतिज़ार करो - Madan Mohan Danish

hai intizaar muqaddar to intizaar karo
par apne dil ki fazaa ko bhi khush-gawaar karo

tumhaare peeche lagi hain udaasiyaan kab se
kisi padaav par ruk kar inhen shikaar karo

hamaare khwaabon ka dar khatkhataati rahti hain
tum apni yaadon ko samjhaao hoshiyaar karo

bhali lagegi yahi zindagi agar us mein
khayal-o-khwaab ki duniya ko bhi shumaar karo

bharosa ba'ad mein kar lena saari duniya par
tum apne aap par to pehle e'tibaar karo

है इंतिज़ार मुक़द्दर तो इंतिज़ार करो
पर अपने दिल की फ़ज़ा को भी ख़ुश-गवार करो

तुम्हारे पीछे लगी हैं उदासियाँ कब से
किसी पड़ाव पर रुक कर इन्हें शिकार करो

हमारे ख़्वाबों का दर खटखटाती रहती हैं
तुम अपनी यादों को समझाओ होशियार करो

भली लगेगी यही ज़िंदगी अगर उस में
ख़याल-ओ-ख़्वाब की दुनिया को भी शुमार करो

भरोसा बा'द में कर लेना सारी दुनिया पर
तुम अपने आप पर तो पहले ए'तिबार करो

- Madan Mohan Danish
1 Like

Qismat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Madan Mohan Danish

As you were reading Shayari by Madan Mohan Danish

Similar Writers

our suggestion based on Madan Mohan Danish

Similar Moods

As you were reading Qismat Shayari Shayari