yun to aapas mein bigadte hain khafa hote hain | यूँ तो आपस में बिगड़ते हैं ख़फ़ा होते हैं - Majrooh Sultanpuri

yun to aapas mein bigadte hain khafa hote hain
milne waale kahi ulfat mein juda hote hain

hain zamaane mein ajab cheez mohabbat waale
dard khud bante hain khud apni dava hote hain

haal-e-dil mujh se na poocho meri nazrein dekho
raaz dil ke to nigaahon se ada hote hain

milne ko yun to mila karti hain sab se aankhen
dil ke aa jaane ke andaaz juda hote hain

aise hans hans ke na dekha karo sab ki jaanib
log aisi hi adaaon pe fida hote hain

यूँ तो आपस में बिगड़ते हैं ख़फ़ा होते हैं
मिलने वाले कहीं उल्फ़त में जुदा होते हैं

हैं ज़माने में अजब चीज़ मोहब्बत वाले
दर्द ख़ुद बनते हैं ख़ुद अपनी दवा होते हैं

हाल-ए-दिल मुझ से न पूछो मिरी नज़रें देखो
राज़ दिल के तो निगाहों से अदा होते हैं

मिलने को यूँ तो मिला करती हैं सब से आँखें
दिल के आ जाने के अंदाज़ जुदा होते हैं

ऐसे हंस हंस के न देखा करो सब की जानिब
लोग ऐसी ही अदाओं पे फ़िदा होते हैं

- Majrooh Sultanpuri
4 Likes

Dard Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Majrooh Sultanpuri

As you were reading Shayari by Majrooh Sultanpuri

Similar Writers

our suggestion based on Majrooh Sultanpuri

Similar Moods

As you were reading Dard Shayari Shayari