bhala hoga kuchh ik ahvaal us se ya bura hoga | भला होगा कुछ इक अहवाल उस से या बुरा होगा - Meer Taqi Meer

bhala hoga kuchh ik ahvaal us se ya bura hoga
maal apna tire gham mein khuda jaane ki kya hoga

tafhhus faaeda naaseh tadaaruk tujh se kya hoga
wahi paavega mera dard-e-dil jis ka laga hoga

kaso ko shauq yaarab besh us se aur kya hoga
qalam haath aa gai hogi to sau sau khat likha hoga

dukanein husn ki aage tire takhta hui hongi
jo tu bazaar mein hoga to yusuf kab bika hoga

maiishat ham faqeeron ki si ikhwan-e-d-zamaan se kar
koi gaali bhi de to kah bhala bhaai bhala hoga

khayal us bewafa ka hum-nasheen itna nahin achha
gumaan rakhte the ham bhi ye ki ham se aashna hoga

qayamat kar ke ab ta'beer jis ko karti hai khilqat
vo us kooche mein ik aashob sa shaayad hua hoga

ajab kya hai halaak ishq mein farhad-o-majnoon ke
mohabbat rog hai koi ki kam us se jiya hoga

na ho kyun ghairat-e-gul-zaar vo koocha khuda jaane
lahu is khaak par kin kin azeezon ka gira hoga

bahut ham-saaye is gulshan ke zanjeeri raha hoon main
kabhu tum ne bhi mera shor naalon ka suna hoga

nahin juz arsh jaaga raah mein lene ko dam us ke
qafas se tan ke murgh-e-rooh mera jab raha hoga

kahi hain meer ko maara gaya shab us ke kooche mein
kahi vehshat mein shaayad baithe baithe uth gaya hoga

भला होगा कुछ इक अहवाल उस से या बुरा होगा
मआल अपना तिरे ग़म में ख़ुदा जाने कि क्या होगा

तफ़ह्हुस फ़ाएदा नासेह तदारुक तुझ से क्या होगा
वही पावेगा मेरा दर्द-ए-दिल जिस का लगा होगा

कसो को शौक़ यारब बेश उस से और क्या होगा
क़लम हाथ आ गई होगी तो सौ सौ ख़त लिखा होगा

दुकानें हुस्न की आगे तिरे तख़्ता हुई होंगी
जो तू बाज़ार में होगा तो यूसुफ़ कब बिका होगा

मईशत हम फ़क़ीरों की सी इख़वान-ए-द-ज़माँ से कर
कोई गाली भी दे तो कह भला भाई भला होगा

ख़याल उस बेवफ़ा का हम-नशीं इतना नहीं अच्छा
गुमाँ रखते थे हम भी ये कि हम से आश्ना होगा

क़यामत कर के अब ता'बीर जिस को करती है ख़िल्क़त
वो उस कूचे में इक आशोब सा शायद हुआ होगा

अजब क्या है हलाक इश्क़ में फ़र्हाद-ओ-मजनूँ के
मोहब्बत रोग है कोई कि कम उस से जिया होगा

न हो क्यूँ ग़ैरत-ए-गुल-ज़ार वो कूचा ख़ुदा जाने
लहू इस ख़ाक पर किन किन अज़ीज़ों का गिरा होगा

बहुत हम-साए इस गुलशन के ज़ंजीरी रहा हूँ मैं
कभू तुम ने भी मेरा शोर नालों का सुना होगा

नहीं जुज़ अर्श जागा राह में लेने को दम उस के
क़फ़स से तन के मुर्ग़-ए-रूह मेरा जब रहा होगा

कहीं हैं 'मीर' को मारा गया शब उस के कूचे में
कहीं वहशत में शायद बैठे बैठे उठ गया होगा

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Ulfat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Ulfat Shayari Shayari