gair ne ham ko zabh kiya nay taqat hai nay yaara hai | ग़ैर ने हम को ज़ब्ह किया नय ताक़त है नय यारा है - Meer Taqi Meer

gair ne ham ko zabh kiya nay taqat hai nay yaara hai
is kutte ne kar ke deleri said-e-haram ko maara hai

baagh ko tujh bin apne bhaayam aatish di hai bahaaraan ne
har guncha akhgar hai ham ko har gul ek angaara hai

jab tujh bin lagta hai tadapne jaaye hai nikla haathon se
hai jo girah seene mein us ko dil kahiye ya paara hai

raah-e-hadees jo tak bhi nikle kaun sikhaaye ham ko phir
roo-e-sukhan par kis ko de vo shokh bada ayyaaraa hai

kaam us ka hai khoon-afshaani har-dam teri furqat mein
chashm ko meri aa kar dekh ab lohoo ka favvaara hai

baal khule vo shab ko shaayad bistar naaz pe sota tha
aayi naseem-e-subh jo idhar faila ambar saara hai

kis din daaman kheench ke un ne yaar se apna kaam liya
muddat guzri dekhte ham ko meer bhi ik naakaara hai

ग़ैर ने हम को ज़ब्ह किया नय ताक़त है नय यारा है
इस कुत्ते ने कर के दिलेरी सैद-ए-हरम को मारा है

बाग़ को तुझ बिन अपने भायं आतिश दी है बहाराँ ने
हर ग़ुंचा अख़गर है हम को हर गुल एक अँगारा है

जब तुझ बिन लगता है तड़पने जाए है निकला हाथों से
है जो गिरह सीने में उस को दिल कहिए या पारा है

राह-ए-हदीस जो टक भी निकले कौन सिखाए हम को फिर
रू-ए-सुख़न पर किस को दे वो शोख़ बड़ा अय्यारा है

काम उस का है ख़ूँ-अफ़शानी हर-दम तेरी फ़ुर्क़त में
चश्म को मेरी आ कर देख अब लोहू का फ़व्वारा है

बाल खुले वो शब को शायद बिस्तर नाज़ पे सोता था
आई नसीम-ए-सुब्ह जो इधर फैला अम्बर सारा है

किस दिन दामन खींच के उन ने यार से अपना काम लिया
मुद्दत गुज़री देखते हम को 'मीर' भी इक नाकारा है

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Raat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Raat Shayari Shayari