peeri mein kya jawaani ke mausam ko roiyie | पीरी में क्या जवानी के मौसम को रोइए - Meer Taqi Meer

peeri mein kya jawaani ke mausam ko roiyie
ab subh hone aayi hai ik dam to soiye

rukhsaar us ke haaye re jab dekhte hain ham
aata hai jee mein aankhon ko un mein gadoiye

ikhlaas dil se chahiye sajda namaaz mein
be-faaida hai warna jo yun waqt khoiye

kis taur aansuon mein nahaate hain gham-kashaan
is aab-e-garm mein to na ungli duboiye

matlab ko to pahunchte nahin andhe ke se taur
ham maarte phire hain yu nahin tappe toiye

ab jaan jism-e-khaaki se tang aa gai bahut
kab tak is ek tokri mitti ko dhoiye

aalooda us gali ki jo hoon khaak se to meer
aab-e-hayaat se bhi na ve paanv dhoiye

पीरी में क्या जवानी के मौसम को रोइए
अब सुब्ह होने आई है इक दम तो सोइए

रुख़्सार उस के हाए रे जब देखते हैं हम
आता है जी में आँखों को उन में गड़ोइए

इख़्लास दिल से चाहिए सज्दा नमाज़ में
बे-फ़ाएदा है वर्ना जो यूँ वक़्त खोइए

किस तौर आँसुओं में नहाते हैं ग़म-कशाँ
इस आब-ए-गर्म में तो न उँगली डुबोइए

मतलब को तो पहुँचते नहीं अंधे के से तौर
हम मारते फिरे हैं यू नहीं टप्पे टोइए

अब जान जिस्म-ए-ख़ाकी से तंग आ गई बहुत
कब तक इस एक टोकरी मिट्टी को ढोईए

आलूदा उस गली की जो हूँ ख़ाक से तो 'मीर'
आब-ए-हयात से भी न वे पाँव धोइए

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Kashmir Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Kashmir Shayari Shayari