jins-e-giraan ko tujh se jo log chahte hain | जिंस-ए-गिराँ को तुझ से जो लोग चाहते हैं - Meer Taqi Meer

jins-e-giraan ko tujh se jo log chahte hain
ve rog apne jee ko naahak basaahate hain

us may-kade mein ham bhi muddat se hain v-lekin
khamyaza kheenchte hain har dam jamaahate hain

naamoose dosti se gardan bandhi hai apni
jeete hain jab talak ham tab tak nibahte hain

sahal is qadar nahin hai mushkil-pasandi meri
jo tujh ko dekhte hain mujh ko saraahate hain

ve din gaye ki raatein naalon se kaatte the
be-dol meer'-saahib ab kuchh karaahte hain

जिंस-ए-गिराँ को तुझ से जो लोग चाहते हैं
वे रोग अपने जी को नाहक़ बसाहते हैं

उस मय-कदे में हम भी मुद्दत से हैं व-लेकिन
ख़म्याज़ा खींचते हैं हर दम जमाहते हैं

नामूस दोस्ती से गर्दन बंधी है अपनी
जीते हैं जब तलक हम तब तक निबाहते हैं

सहल इस क़दर नहीं है मुश्किल-पसंदी मेरी
जो तुझ को देखते हैं मुझ को सराहते हैं

वे दिन गए कि रातें नालों से काटते थे
बे-डोल 'मीर'-साहिब अब कुछ कराहते हैं

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Bimari Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Bimari Shayari Shayari