aalam mein koi dil ka talabgaar na paaya | आलम में कोई दिल का तलबगार न पाया - Meer Taqi Meer

aalam mein koi dil ka talabgaar na paaya
is jins ka yaa ham ne khareedaar na paaya

haq dhoondhne ka aap ko aata nahin warna
aalam hai sabhi yaar kahaan yaar na paaya

ghairoon hi ke haathon mein rahe dast-e-nigaari
kab ham ne tire haath se aazaar na paaya

jaati hai nazar khas pe gah chashm-pareedan.
yaa ham ne par kaah bhi be-kaar na paaya

tasveer ke maanind lage dar hi se guzri
majlis mein tiri ham ne kabhu baar na paaya

sooraakh hai seene mein har ik shakhs ke tujh se
kis dal ke tarah teer-e-nigah paar na paaya

marboot hain tujh se bhi yahi naaks-o-naaahl
us baagh mein ham ne gul be-khaar na paaya

dam ba'ad junoon mujh mein na mehsoos tha ya'ni
jaame mein mere yaaron ne ik taar na paaya

aaina bhi hairat se mohabbat ki hue ham
par sair ho is shakhs ka deedaar na paaya

vo kheench ke shamsheer sitam rah gaya jo meer
khuun-rezi ka yaa koi saza-waar na paaya

आलम में कोई दिल का तलबगार न पाया
इस जिंस का याँ हम ने ख़रीदार न पाया

हक़ ढूँडने का आप को आता नहीं वर्ना
आलम है सभी यार कहाँ यार न पाया

ग़ैरों ही के हाथों में रहे दस्त-ए-निगारीं
कब हम ने तिरे हाथ से आज़ार न पाया

जाती है नज़र ख़स पे गह चश्म-परीदन
याँ हम ने पर काह भी बे-कार न पाया

तस्वीर के मानिंद लगे दर ही से गुज़री
मज्लिस में तिरी हम ने कभू बार न पाया

सूराख़ है सीने में हर इक शख़्स के तुझ से
किस दल के तरह तीर-ए-निगह पार न पाया

मरबूत हैं तुझ से भी यही नाक्स-ओ-नाअहल
उस बाग़ में हम ने गुल बे-ख़ार न पाया

दम बा'द जुनूँ मुझ में न महसूस था या'नी
जामे में मिरे यारों ने इक तार न पाया

आईना भी हैरत से मोहब्बत की हुए हम
पर सैर हो इस शख़्स का दीदार न पाया

वो खींच के शमशीर सितम रह गया जो 'मीर'
ख़ूँ-रेज़ी का याँ कोई सज़ा-वार न पाया

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Chehra Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Chehra Shayari Shayari