baghair dil ki ye qeemat hai saare aalam ki | बग़ैर दिल कि ये क़ीमत है सारे आलम की - Meer Taqi Meer

baghair dil ki ye qeemat hai saare aalam ki
kaso se kaam nahin rakhti jins aadam ki

koi ho mehram shokhi tira to mein poochoon
ki bazm-e-aish jahaan kya samajh ke barham ki

hamein to baagh ki takleef se mua'af rakho
ki sair-o-gasht nahin rasm ahl-e-maatam ki

tanik to lutf se kuchh kah ki jaan-b-lab hoon main
rahi hai baat meri jaan ab koi dam ki

guzarne ko to kaj-o-waakaj apni guzre hai
jafaa jo un ne bahut ki to kuchh wafa kam ki

ghire hain dard-o-alam mein firaq ke aise
ki subh-e-eid bhi yaa shaam hai mehram ki

qafas mein meer nahin josh daagh seene par
havas nikaali hai ham ne bhi gul ke mausam ki

बग़ैर दिल कि ये क़ीमत है सारे आलम की
कसो से काम नहीं रखती जिंस आदम की

कोई हो महरम शोख़ी तिरा तो में पूछूँ
कि बज़्म-ए-ऐश जहाँ क्या समझ के बरहम की

हमें तो बाग़ की तकलीफ़ से मुआ'फ़ रखो
कि सैर-ओ-गशत नहीं रस्म अहल-ए-मातम की

तनिक तो लुत्फ़ से कुछ कह कि जाँ-ब-लब हूँ मैं
रही है बात मिरी जान अब कोई दम की

गुज़रने को तो कज-ओ-वाकज अपनी गुज़रे है
जफ़ा जो उन ने बहुत की तो कुछ वफ़ा कम की

घिरे हैं दर्द-ओ-अलम में फ़िराक़ के ऐसे
कि सुब्ह-ए-ईद भी याँ शाम है महरम की

क़फ़स में 'मीर' नहीं जोश दाग़ सीने पर
हवस निकाली है हम ने भी गुल के मौसम की

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Jafa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Jafa Shayari Shayari