dair-o-haram se guzre ab dil hai ghar hamaara | दैर-ओ-हरम से गुज़रे अब दिल है घर हमारा - Meer Taqi Meer

dair-o-haram se guzre ab dil hai ghar hamaara
hai khatm us aable par sair-o-safar hamaara

palkon se teri ham ko kya chashm-daasht ye thi
un barchiyon ne baanta baaham jigar hamaara

duniya-o-deen ki jaanib mailaan ho to kahiye
kya jaaniye ki is bin dil hai kidhar hamaara

hain tere aaine ki timsaal ham na poocho
is dasht mein nahin hai paida asar hamaara

jon subh ab kahaan hai tool-e-sukhan ki furqat
qissa hi koi dam ko hai mukhtasar hamaara

kooche mein us ke ja kar banta nahin phir aana
khoon ek din girega us khaak par hamaara

hai teera-roz apna ladkon ki dosti se
us din hi ko kahe tha akshar pidar hamaara

sailaab har taraf se aayenge baadiye mein
jon abr rote hoga jis dam guzar hamaara

nashv-o-numa hai apni jon gard-baad anokhi
baalida khaak rah se hai ye shajar hamaara

yun door se khade ho kya mo'tabar hai rona
daaman se baandh daaman ai abr-e-tar hamaara

jab paas raat rahna aata hai yaad us ka
thamta nahin hai rona do dopahar hamaara

us kaarvaan-sara mein kya meer baar khole
yaa kooch lag raha hai shaam-o-sehar hamaara

दैर-ओ-हरम से गुज़रे अब दिल है घर हमारा
है ख़त्म उस आबले पर सैर-ओ-सफ़र हमारा

पलकों से तेरी हम को क्या चश्म-दाश्त ये थी
उन बर्छियों ने बाँटा बाहम जिगर हमारा

दुनिया-ओ-दीं की जानिब मैलान हो तो कहिए
क्या जानिए कि इस बिन दिल है किधर हमारा

हैं तेरे आईने की तिमसाल हम न पूछो
इस दश्त में नहीं है पैदा असर हमारा

जों सुब्ह अब कहाँ है तूल-ए-सुख़न की फ़ुर्सत
क़िस्सा ही कोई दम को है मुख़्तसर हमारा

कूचे में उस के जा कर बनता नहीं फिर आना
ख़ून एक दिन गिरेगा उस ख़ाक पर हमारा

है तीरा-रोज़ अपना लड़कों की दोस्ती से
उस दिन ही को कहे था अक्सर पिदर हमारा

सैलाब हर तरफ़ से आएँगे बादीए में
जों अब्र रोते होगा जिस दम गुज़र हमारा

नश्व-ओ-नुमा है अपनी जों गर्द-बाद अनोखी
बालीदा ख़ाक रह से है ये शजर हमारा

यूँ दूर से खड़े हो क्या मो'तबर है रोना
दामन से बाँध दामन ऐ अब्र-ए-तर हमारा

जब पास रात रहना आता है याद उस का
थमता नहीं है रोना दो दोपहर हमारा

उस कारवाँ-सरा में क्या 'मीर' बार खोलें
याँ कूच लग रहा है शाम-ओ-सहर हमारा

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Good night Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Good night Shayari Shayari