mehr ki tujh se tavakko thi sitamgar nikla | महर की तुझ से तवक़्क़ो' थी सितमगर निकला - Meer Taqi Meer

mehr ki tujh se tavakko thi sitamgar nikla
mom samjhe the tire dil ko so patthar nikla

daagh hoon rask-e-mohabbat se ki itna betaab
kis ki taskin ke liye ghar se tu baahar nikla

jeete jee aah tire kooche se koi na fira
jo sitam-deeda raha ja ke so mar kar nikla

dil ki aabaadi ki is had hai kharaabi ki na pooch
jaana jaata hai ki us raah se lashkar nikla

ashk-e-tar qatra-e-khoon lakht-e-jigar paara-e-dil
ek se ek addad aankh se bah kar nikla

kunj-kaavi jo ki seene ki gham-e-hijraan ne
is dafneene mein se aqsaam-e-jawaahar nikla

ham ne jaana tha likhega tu koi harf ai meer
par tira naama to ik shauq ka daftar nikla

महर की तुझ से तवक़्क़ो' थी सितमगर निकला
मोम समझे थे तिरे दिल को सो पत्थर निकला

दाग़ हूँ रश्क-ए-मोहब्बत से कि इतना बेताब
किस की तस्कीं के लिए घर से तू बाहर निकला

जीते जी आह तिरे कूचे से कोई न फिरा
जो सितम-दीदा रहा जा के सो मर कर निकला

दिल की आबादी की इस हद है ख़राबी कि न पूछ
जाना जाता है कि उस राह से लश्कर निकला

अश्क-ए-तर क़तरा-ए-ख़ूँ लख़्त-ए-जिगर पारा-ए-दिल
एक से एक अदद आँख से बह कर निकला

कुंज-कावी जो की सीने की ग़म-ए-हिज्राँ ने
इस दफ़ीने में से अक़साम-ए-जवाहर निकला

हम ने जाना था लिखेगा तू कोई हर्फ़ ऐ 'मीर'
पर तिरा नामा तो इक शौक़ का दफ़्तर निकला

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Afsos Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Afsos Shayari Shayari