naaz-e-chaman wahi hai bulbul se go khizaan hai | नाज़-ए-चमन वही है बुलबुल से गो ख़िज़ाँ है - Meer Taqi Meer

naaz-e-chaman wahi hai bulbul se go khizaan hai
tahni jo zard bhi hai so shaakh-e-zaafaraan hai

gar is chaman mein vo bhi ik hi lab-o-dahaan hai
lekin sukhun ka tujh se gunche ko munh kahaan hai

hangaam-e-jalva us ke mushkil hai thehre rahna
chitwan hai dil ki aafat-e-chashmak bala-e-jaan hai

patthar se todne ke qaabil hai aarsi tu
par kya karein ki pyaare munh tera darmiyaan hai

baag-o-bahaar hai vo main kisht-e-zaafaran hoon
jo lutf ik idhar hai to yaa bhi ik samaan hai

har-chand zabt kariye chhupta hai ishq koi
guzre hai dil pe jo kuchh chehre hi se ayaan hai

is fan mein koi be-tah kya ho mera muaariz
awwal to main sanad hoon phir ye meri zabaan hai

aalam mein aab-o-gil ka thehraav kis tarah ho
gar khaak hai arde hai var aab hai ravaan hai

charcha rahega us ka ta-hashr may-kashaan mein
khuun-rezi ki hamaari rangeen dastaan hai

az-khawish rafta us bin rehta hai meer akshar
rahte ho baat kis se vo aap mein kahaan hai

नाज़-ए-चमन वही है बुलबुल से गो ख़िज़ाँ है
टहनी जो ज़र्द भी है सो शाख़-ए-ज़ाफ़राँ है

गर इस चमन में वो भी इक ही लब-ओ-दहाँ है
लेकिन सुख़न का तुझ से ग़ुंचे को मुँह कहाँ है

हंगाम-ए-जल्वा उस के मुश्किल है ठहरे रहना
चितवन है दिल की आफ़त-ए-चश्मक बला-ए-जाँ है

पत्थर से तोड़ने के क़ाबिल है आरसी तू
पर क्या करें कि प्यारे मुँह तेरा दरमियाँ है

बाग़-ओ-बहार है वो मैं किश्त-ए-ज़ाफ़राँ हूँ
जो लुत्फ़ इक इधर है तो याँ भी इक समाँ है

हर-चंद ज़ब्त करिए छुपता है इश्क़ कोई
गुज़रे है दिल पे जो कुछ चेहरे ही से अयाँ है

इस फ़न में कोई बे-तह क्या हो मिरा मुआरिज़
अव्वल तो मैं सनद हूँ फिर ये मिरी ज़बाँ है

आलम में आब-ओ-गिल का ठहराव किस तरह हो
गर ख़ाक है अड़े है वर आब है रवाँ है

चर्चा रहेगा उस का ता-हश्र मय-कशाँ में
ख़ूँ-रेज़ी की हमारी रंगीन दास्ताँ है

अज़-ख़वीश रफ़्ता उस बिन रहता है 'मीर' अक्सर
रहते हो बात किस से वो आप में कहाँ है

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Urdu Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Urdu Shayari Shayari