ghazal meer ki kab padhaai nahin | ग़ज़ल 'मीर' की कब पढ़ाई नहीं - Meer Taqi Meer

ghazal meer ki kab padhaai nahin
ki haalat mujhe ghash ki aayi nahin

zabaan se hamaari hai sayyaad khush
hamein ab ummeed-e-rihaai nahin

kitaabat gai kab ki us shokh ne
bana us ki gaddi udaai nahin

naseem aayi mere qafas mein abas
gulistaan se do phool laai nahin

meri dil-lagi us ke roo se hi hai
gul-e-tar se kuchh aashnaai nahin

navishte ki khoobi likhi kab gai
kitaabat bhi ek ab tak aayi nahin

juda rahte barson hue kyunki ye
kinaaya nahin be-adaai nahin

gila hijr ka sun ke kehne laga
hamaare tumhaare judaai nahin

siyah-taalai meri zaahir hai ab
nahin shab ki us se ladai nahin

ग़ज़ल 'मीर' की कब पढ़ाई नहीं
कि हालत मुझे ग़श की आई नहीं

ज़बाँ से हमारी है सय्याद ख़ुश
हमें अब उम्मीद-ए-रिहाई नहीं

किताबत गई कब कि उस शोख़ ने
बना उस की गड्डी उड़ाई नहीं

नसीम आई मेरे क़फ़स में अबस
गुलिस्ताँ से दो फूल लाई नहीं

मिरी दिल-लगी उस के रू से ही है
गुल-ए-तर से कुछ आश्नाई नहीं

नविश्ते की ख़ूबी लिखी कब गई
किताबत भी एक अब तक आई नहीं

जुदा रहते बरसों हुए क्यूँकि ये
किनाया नहीं बे-अदाई नहीं

गिला हिज्र का सुन के कहने लगा
हमारे तुम्हारे जुदाई नहीं

सियह-तालई मेरी ज़ाहिर है अब
नहीं शब कि उस से लड़ाई नहीं

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Khushi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Khushi Shayari Shayari