naala-e-izz naqs-e-ulfat hai | नाला-ए-इज्ज़ नक़्स-ए-उलफ़त है - Meer Taqi Meer

naala-e-izz naqs-e-ulfat hai
ranj-o-mehnat kamaal raahat hai

ishq hi giryaa-e-nadaamat hai
warna aashiq ko chashm-e-khifffat hai

ta dam-e-marg gham khushi ka nahin
dil-e-aazurda gar salaamat hai

dil mein naasoor phir jidhar chahe
har taraf koocha-e-jarraahat hai

rona aata hai dam-b-dam shaayad
kaso hasrat ki dil se ruksat hai

fitne rahte hain us ke saaye mein
qad-o-qamat tira qayamat hai

na tujhe rehm ne use tuk sabr
dil pe mere ajab museebat hai

tu to naadaan hai nipt naaseh
kab mo'assir tiri naseehat hai

dil pe jab mere aa ke ye thehra
ki mujhe khush-dili aziyyat hai

ranj-o-mehnat se baaz kyoonke rahoon
waqt jaata rahe to hasrat hai

kya hai phir koi dam ko kya jaano
dam ghaneemat miyaan jo furqat hai

tera shikwa mujhe na mera tujhe
chahiye yun jo fil-haqeeqat hai

tujh ko masjid hai mujh ko may-khaana
waizaa apni apni qismat hai

aise hansmukh ko sham'a se tashbeeh
sham'a-e-majlis ki ronee soorat hai

baatil-us-sehr dekh baatil the
teri aankhon ka seher aafat hai

abr-e-tar ke huzoor phoot baha
deeda-e-tar ko mere rahmat hai

gaah naalaan tapaan gahe be-dam
dil ki mere ajab hi haalat hai

kya hua gar ghazal qaseeda hui
aqibat qissa-e-mohabbat hai

turbat-e-'meer par hain ahl-e-sukhan
har taraf harf hai hikaayat hai

tu bhi taqreeb-e-faatiha se chal
b-khuda waajibuzzziyaarat hai

नाला-ए-इज्ज़ नक़्स-ए-उलफ़त है
रंज-ओ-मेहनत कमाल राहत है

इश्क़ ही गिर्या-ए-नदामत है
वर्ना आशिक़ को चश्म-ए-ख़िफ़्फ़त है

ता दम-ए-मर्ग ग़म ख़ुशी का नहीं
दिल-ए-आज़ुर्दा गर सलामत है

दिल में नासूर फिर जिधर चाहे
हर तरफ़ कूचा-ए-जर्राहत है

रोना आता है दम-ब-दम शायद
कसो हसरत की दिल से रुख़्सत है

फ़ित्ने रहते हैं उस के साए में
क़द-ओ-क़ामत तिरा क़यामत है

न तुझे रहम ने उसे टुक सब्र
दिल पे मेरे अजब मुसीबत है

तू तो नादान है निपट नासेह
कब मोअस्सिर तिरी नसीहत है

दिल पे जब मेरे आ के ये ठहरा
कि मुझे ख़ुश-दिली अज़िय्यत है

रंज-ओ-मेहनत से बाज़ क्यूँके रहूँ
वक़्त जाता रहे तो हसरत है

क्या है फिर कोई दम को क्या जानो
दम ग़नीमत मियाँ जो फ़ुर्सत है

तेरा शिकवा मुझे न मेरा तुझे
चाहिए यूँ जो फ़िल-हक़ीक़त है

तुझ को मस्जिद है मुझ को मय-ख़ाना
वाइज़ा अपनी अपनी क़िस्मत है

ऐसे हँसमुख को शम्अ' से तश्बीह
शम्अ-ए-मज्लिस की रोनी सूरत है

बातिल-उस-सेहर देख बातिल थे
तेरी आँखों का सेहर आफ़त है

अब्र-ए-तर के हुज़ूर फूट बहा
दीदा-ए-तर को मेरे रहमत है

गाह नालाँ तपाँ गहे बे-दम
दिल की मेरे अजब ही हालत है

क्या हुआ गर ग़ज़ल क़सीदा हुई
आक़िबत क़िस्सा-ए-मोहब्बत है

तुर्बत-ए-'मीर' पर हैं अहल-ए-सुख़न
हर तरफ़ हर्फ़ है हिकायत है

तू भी तक़रीब-ए-फ़ातिहा से चल
ब-ख़ुदा वाजिबु्ज़्ज़ियारत है

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Greed Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Greed Shayari Shayari