shauq hai to hai us ka ghar nazdeek | शौक़ है तो है उस का घर नज़दीक - Meer Taqi Meer

shauq hai to hai us ka ghar nazdeek
doori-e-rah hai raahbar nazdeek

aah karne mein dam ko saadhe rah
kahte hain dil se hai jigar nazdeek

door waalon ko bhi na pahunchen ham
yahi na tum se hain magar nazdeek

dooben darya-o-koh-o-shahr-o-dasht
tujh se sab kuchh hai chashm-e-tar nazdeek

harf doori hai garche insha lek
deejyo khat ja ke nama-bar nazdeek

door ab baithe hain majlis mein
ham jo tum se the beshtar nazdeek

khabar aati hai so bhi door se yaa
aao yak-baar be-khabar nazdeek

tosha-e-aakhirat ka fikr rahe
jee se jaane ka hai safar nazdeek

daur firne ka ham se waqt gaya
pooch kuchh haal baith kar nazdeek

mar bhi rah meer shab bahut roya
hai meri jaan ab sehar nazdeek

शौक़ है तो है उस का घर नज़दीक
दूरी-ए-रह है राहबर नज़दीक

आह करने में दम को साधे रह
कहते हैं दिल से है जिगर नज़दीक

दूर वालों को भी न पहुँचे हम
यही न तुम से हैं मगर नज़दीक

डूबें दरिया-ओ-कोह-ओ-शहर-ओ-दश्त
तुझ से सब कुछ है चश्म-ए-तर नज़दीक

हर्फ़ दूरी है गरचे इंशा लेक
दीजो ख़त जा के नामा-बर नज़दीक

दूर अब बैठते हैं मज्लिस में
हम जो तुम से थे बेशतर नज़दीक

ख़बर आती है सो भी दूर से याँ
आओ यक-बार बे-ख़बर नज़दीक

तोशा-ए-आख़िरत का फ़िक्र रहे
जी से जाने का है सफ़र नज़दीक

दौर फिरने का हम से वक़्त गया
पूछ कुछ हाल बैठ कर नज़दीक

मर भी रह 'मीर' शब बहुत रोया
है मिरी जान अब सहर नज़दीक

- Meer Taqi Meer
1 Like

Mashwara Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Mashwara Shayari Shayari