dil-o-dimaagh hai ab kis ko zindagaani ka | दिल-ओ-दिमाग़ है अब किस को ज़िंदगानी का - Meer Taqi Meer

dil-o-dimaagh hai ab kis ko zindagaani ka
jo koi dam hai to afsos hai jawaani ka

agarche umr ke das din ye lab rahe khaamosh
sukhun rahega sada meri kam-zabaani ka

subuk hai aave jo mindil rakh namaaz ko shaikh
raha hai kaun sa ab waqt sargiraani ka

hazaar jaan se qurbaan be-paree ke hain
khayal bhi kabhu guzra na par-fishaani ka

phire hai kheeche hi talwaar mujh pe har-dam to
ki said hoon main tiri dushmani jaani ka

numood kar ke wahin bahr-e-gham mein baith gaya
kahe to meer bhi ik bulbulaa tha paani ka

दिल-ओ-दिमाग़ है अब किस को ज़िंदगानी का
जो कोई दम है तो अफ़्सोस है जवानी का

अगरचे उम्र के दस दिन ये लब रहे ख़ामोश
सुख़न रहेगा सदा मेरी कम-ज़बानी का

सुबुक है आवे जो मिंदील रख नमाज़ को शैख़
रहा है कौन सा अब वक़्त सरगिरानी का

हज़ार जान से क़ुर्बान बे-परी के हैं
ख़याल भी कभू गुज़रा न पर-फ़िशानी का

फिरे है खींचे ही तलवार मुझ पे हर-दम तो
कि सैद हूँ मैं तिरी दुश्मनी जानी का

नुमूद कर के वहीं बहर-ए-ग़म में बैठ गया
कहे तो 'मीर' भी इक बुलबुला था पानी का

- Meer Taqi Meer
1 Like

Intiqam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Intiqam Shayari Shayari