ham se kuchh aage zamaane mein hua kya kya kuchh | हम से कुछ आगे ज़माने में हुआ क्या क्या कुछ - Meer Taqi Meer

ham se kuchh aage zamaane mein hua kya kya kuchh
to bhi ham ghaafiloon ne aa ke kya kya kuchh

dil jigar jaan ye bhasmanat hue seene mein
ghar ko aatish di mohabbat ne jala kya kya kuchh

kya kahoon tujh se ki kya dekha hai tujh mein main ne
ishwa-o-ghamza-o-andaaz-o-ada kya kya kuchh

dil gaya hosh gaya sabr gaya jee bhi gaya
shaghl mein gham ke tire ham se gaya kya kya kuchh

aah mat pooch sitamgaar ki tujh se thi hamein
chashm-e-lutf-o-karam-o-mahr-o-wafa kya kya kuchh

naam hain khasta-o-aawaara-o-badnaam mere
ek aalam ne garz mujh ko kaha kya kya kuchh

tarfa-e-sohbat hai ki sunta nahin tu ek meri
vaaste tere suna main ne suna kya kya kuchh

hasrat-e-wasl-o-gham-e-hijr-o-khyaal-e-rukh-e-dost
mar gaya main pe mere jee mein raha kya kya kuchh

dard-e-dil zakham-e-jigar kulfat-e-gham daag-e-firaq
aah aalam se mere saath chala kya kya kuchh

chashm-e-namnaak-o-dil par jigar sad-paara
daulat-e-ishq se ham paas bhi tha kya kya kuchh

tujh ko kya banne bigarne se zamaane ke ki yaa
khaak kin kin ki hui sirf bana kya kya kuchh

qibla-o-kaaba khuda-vand-o-malaz-o-mushfiq
muztarib ho ke use main ne likha kya kya kuchh

par kahoon kya raqam shauq ki apne taaseer
har sar-e-harf pe vo kehne laga kya kya kuchh

ek mahroom chale meer hamein aalam se
warna aalam ko zamaane ne diya kya kya kuchh

हम से कुछ आगे ज़माने में हुआ क्या क्या कुछ
तो भी हम ग़ाफ़िलों ने आ के क्या क्या कुछ

दिल जिगर जान ये भसमनत हुए सीने में
घर को आतिश दी मोहब्बत ने जला क्या क्या कुछ

क्या कहूँ तुझ से कि क्या देखा है तुझ में मैं ने
इशवा-ओ-ग़मज़ा-ओ-अंदाज़-ओ-अदा क्या क्या कुछ

दिल गया होश गया सब्र गया जी भी गया
शग़्ल में ग़म के तिरे हम से गया क्या क्या कुछ

आह मत पूछ सितमगार कि तुझ से थी हमें
चश्म-ए-लुतफ़-ओ-करम-ओ-महर-ओ-वफ़ा क्या क्या कुछ

नाम हैं ख़स्ता-ओ-आवारा-ओ-बदनाम मिरे
एक आलम ने ग़रज़ मुझ को कहा क्या क्या कुछ

तरफ़ा-ए-सोहबत है कि सुनता नहीं तू एक मिरी
वास्ते तेरे सुना मैं ने सुना क्या क्या कुछ

हसरत-ए-वसल-ओ-ग़म-ए-हिजर-ओ-ख़्याल-ए-रुख़-ए-दोस्त
मर गया मैं पे मिरे जी में रहा क्या क्या कुछ

दर्द-ए-दिल ज़ख़्म-ए-जिगर कुल्फ़त-ए-ग़म दाग़-ए-फ़िराक़
आह आलम से मिरे साथ चला क्या क्या कुछ

चश्म-ए-नमनाक-ओ-दिल पर जिगर सद-पारा
दौलत-ए-इश्क़ से हम पास भी था क्या क्या कुछ

तुझ को क्या बनने बिगड़ने से ज़माने के कि याँ
ख़ाक किन किन की हुई सिर्फ़ बना क्या क्या कुछ

क़िबला-ओ-काबा ख़ुदा-वंद-ओ-मलाज़-ओ-मुशफ़िक़
मुज़्तरिब हो के उसे मैं ने लिखा क्या क्या कुछ

पर कहूँ क्या रक़म शौक़ की अपने तासीर
हर सर-ए-हर्फ़ पे वो कहने लगा क्या क्या कुछ

एक महरूम चले 'मीर' हमें आलम से
वर्ना आलम को ज़माने ने दिया क्या क्या कुछ

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Gham Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Gham Shayari Shayari