kya tarah hai aashna gahe-gahe na-aashnaa | क्या तरह है आश्ना गाहे-गहे ना-आश्ना - Meer Taqi Meer

kya tarah hai aashna gahe-gahe na-aashnaa
ya to begaane hi rahiye hojiye ya aashna

paayemaal-e-sad-jafa na-haq na ho ai andaleeb
sabza-e-begaana bhi tha is chaman ka aashna

kaun se ye bahr-e-khoobi ki pareshaan zulf hai
aati hai aankhon mein meri mauj dariya-aashna

rona hi aata hai ham ko dil hua jab se juda
jaaye rone hi ki hai jaave jab aisa aashna

na-samajh hai to jo meri qadar nai karta ki shokh
kam bahut milta hai phir dil-khwaah itna aashna

bulbulein paaiz mein kahti theen hota kaashke
yak mizaa rang faraari is chaman ka aashna

ko gul-o-laala kahaan sumbul saman ham-nastaran
khaak se yaksaan hue hain haaye kya kya aashna

kya karoon kis se kahoon itna hi begaana hai yaar
saare aalam mein nahin paate kisi ka aashna

jis se main chaahi visaatat un ne ye mujh se kaha
ham to kahte gar miyaan ham se vo hota aashna

yun suna ja hai ki karta hai safar ka azm-jazm
saath ab begaana wazon ke hamaara aashna

she'r saib ka munaasib hai hamaari or se
saamne us ke parhe gar ye koi ja aashna

ta-b-jan ma hamraheem wa taa-b-manzil deegaraan
farq baashad jaan-e-ma az-aashnaa ta-aashnaa

daagh hai taabaan alaihirrahma ka chaati pe meer
ho najaat us ko bechaara ham se bhi tha aashna

क्या तरह है आश्ना गाहे-गहे ना-आश्ना
या तो बेगाने ही रहिए होजिए या आश्ना

पाएमाल-ए-सद-जफ़ा ना-हक़ न हो ऐ अंदलीब
सब्ज़ा-ए-बेगाना भी था इस चमन का आश्ना

कौन से ये बहर-ए-ख़ूबी की परेशाँ ज़ुल्फ़ है
आती है आँखों में मेरी मौज दरिया-आश्ना

रोना ही आता है हम को दिल हुआ जब से जुदा
जाए रोने ही की है जावे जब ऐसा आश्ना

ना-समझ है तो जो मेरी क़दर नईं करता कि शोख़
कम बहुत मिलता है फिर दिल-ख़्वाह इतना आश्ना

बुलबुलें पाईज़ में कहती थीं होता काशके
यक मिज़ा रंग फ़रारी इस चमन का आश्ना

को गुल-ओ-लाला कहाँ सुम्बुल समन हम-नस्तरन
ख़ाक से यकसाँ हुए हैं हाए क्या क्या आश्ना

क्या करूँ किस से कहूँ इतना ही बेगाना है यार
सारे आलम में नहीं पाते किसी का आश्ना

जिस से मैं चाही विसातत उन ने ये मुझ से कहा
हम तो कहते गर मियाँ हम से वो होता आश्ना

यूँ सुना जा है कि करता है सफ़र का अज़्म-जज़्म
साथ अब बेगाना वज़्ओं के हमारा आश्ना

शे'र 'साइब' का मुनासिब है हमारी ओर से
सामने उस के पढ़े गर ये कोई जा आश्ना

ता-ब-जाँ मा हमरहीम व ता-ब-मंज़िल दीगराँ
फ़र्क़ बाशद जान-ए-मा अज़-आश्ना ता-आश्ना

दाग़ है ताबाँ अलैहिर्रहमा का छाती पे 'मीर'
हो नजात उस को बेचारा हम से भी था आश्ना

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Musafir Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Musafir Shayari Shayari