sozish dil se muft galte hain | सोज़िश दिल से मुफ़्त गलते हैं - Meer Taqi Meer

sozish dil se muft galte hain
daagh jaise charaagh julte hain

is tarah dil gaya ki ab tak ham
baithe rote hain haath milte hain

bhari aati hain aaj yun aankhen
jaise dariya kahi ubalte hain

dam-e-aakhir hai baith ja mat ja
sabr kar tak ki ham bhi chalte hain

tere be-khud jo hain so kiya cheeten
aise doobe kahi uchhalte hain

fitna dar-sar-e-butaan-e-hashr-e-khiraam
haaye re kis thask se chalte hain

nazar uthati nahin ki jab khooban
sote se uth ke aankh milte hain

is sar-e-zulf ka khayal na chhod
saanp ke sar hi yaa kuchalte hain

the jo aghyaar sang seene ke
ab to kuchh ham ko dekh talte hain

sham'-roo mom ke bane hain magar
garm tak maliye to pighalte hain

meer'-saahib ko dekhiye jo bane
ab bahut ghar se kam nikalte hain

सोज़िश दिल से मुफ़्त गलते हैं
दाग़ जैसे चराग़ जुलते हैं

इस तरह दिल गया कि अब तक हम
बैठे रोते हैं हाथ मिलते हैं

भरी आती हैं आज यूँ आँखें
जैसे दरिया कहीं उबलते हैं

दम-ए-आख़िर है बैठ जा मत जा
सब्र कर टक कि हम भी चलते हैं

तेरे बे-ख़ुद जो हैं सो किया चीतें
ऐसे डूबे कहीं उछलते हैं

फ़ित्ना दर-सर-ए-बुतान-ए-हश्र-ए-ख़िराम
हाए रे किस ठसक से चलते हैं

नज़र उठती नहीं कि जब ख़ूबाँ
सोते से उठ के आँख मिलते हैं

इस सर-ए-ज़ुल्फ़ का ख़याल न छोड़
साँप के सर ही याँ कुचलते हैं

थे जो अग़्यार संग सीने के
अब तो कुछ हम को देख टलते हैं

शम्अ'-रू मोम के बने हैं मगर
गर्म टक मलिए तो पिघलते हैं

'मीर'-साहिब को देखिए जो बने
अब बहुत घर से कम निकलते हैं

- Meer Taqi Meer
1 Like

Tasawwur Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Tasawwur Shayari Shayari