hanste ho rote dekh kar gham se | हँसते हो रोते देख कर ग़म से - Meer Taqi Meer

hanste ho rote dekh kar gham se
chhed rakhi hai tum ne kya ham se

mund gai aankh hai andhera paak
raushni hai so yaa mere dam se

tum jo dil-khwaah khalk ho ham ko
dushmani hai tamaam aalam se

darhami aa gai mizaajon mein
aakhir un gesoovaan-e-dirham se

sab ne jaana kahi ye aashiq hai
bah gaye ashk deeda-e-nam se

muft yun haath se na kho ham ko
kahi paida bhi hote hain ham se

akshar aalaat-e-jaur us se hue
aafatein aayein us ke muqaddam se

dekh ve palkein barchiyaan chaliyaan
teg nikli us abroo-e-kham se

koi begaana gar nahin maujood
munh chhupaana ye kya hai phir ham se

wajh parde ki poochiye baare
maliye us ke kaso jo mehram se

darpay khoon meer hi na raho
ho bhi jaata hai jurm aadam se

हँसते हो रोते देख कर ग़म से
छेड़ रखी है तुम ने क्या हम से

मुँद गई आँख है अँधेरा पाक
रौशनी है सो याँ मिरे दम से

तुम जो दिल-ख़्वाह ख़ल्क़ हो हम को
दुश्मनी है तमाम आलम से

दरहमी आ गई मिज़ाजों में
आख़िर उन गेसूवान-ए-दिरहम से

सब ने जाना कहीं ये आशिक़ है
बह गए अश्क दीदा-ए-नम से

मुफ़्त यूँ हाथ से न खो हम को
कहीं पैदा भी होते हैं हम से

अक्सर आलात-ए-जौर उस से हुए
आफ़तें आईं उस के मुक़द्दम से

देख वे पलकें बर्छियाँ चलियाँ
तेग़ निकली उस अबरू-ए-ख़म से

कोई बेगाना गर नहीं मौजूद
मुँह छुपाना ये क्या है फिर हम से

वज्ह पर्दे की पोछिए बारे
मलिए उस के कसो जो महरम से

दरपय ख़ून 'मीर' ही न रहो
हो भी जाता है जुर्म आदम से

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Ujaala Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Ujaala Shayari Shayari