agar raah mein us ki rakha hai gaam | अगर राह में उस की रखा है गाम - Meer Taqi Meer

agar raah mein us ki rakha hai gaam
gaye guzre khizr alaihis-salaam

dehan yaar ka dekh chup lag gai
sukhun yaa hua khatm haasil-kalaam

mujhe dekh munh par pareshaan ki zulf
garz ye ki ja tu hui ab to shaam

sar-e-shaam se rahti hain kaahishein
hamein shauq us maah ka hai tamaam

qayamat hi yaa chashm-o-dil se rahi
chale bas to waan ja ke kariye qayaam

na dekhe jahaan koi aankhon ki aur
na leve koi jis jagah dil ka naam

jahaan meer zer-o-zabar ho gaya
khiraamaan hua tha vo mahshar-khiraam

अगर राह में उस की रखा है गाम
गए गुज़रे ख़िज़र अलैहिस-सलाम

दहन यार का देख चुप लग गई
सुख़न याँ हुआ ख़त्म हासिल-कलाम

मुझे देख मुँह पर परेशाँ की ज़ुल्फ़
ग़रज़ ये कि जा तू हुई अब तो शाम

सर-ए-शाम से रहती हैं काहिशें
हमें शौक़ उस माह का है तमाम

क़यामत ही याँ चश्म-ओ-दिल से रही
चले बस तो वाँ जा के करिए क़याम

न देखे जहाँ कोई आँखों की और
न लेवे कोई जिस जगह दिल का नाम

जहाँ 'मीर' ज़ेर-ओ-ज़बर हो गया
ख़िरामाँ हुआ था वो महशर-ख़िराम

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Shaam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Shaam Shayari Shayari