shab tha naalaan aziz koi tha | शब था नालाँ अज़ीज़ कोई था - Meer Taqi Meer

shab tha naalaan aziz koi tha
murg-e-khush-khwaan aziz koi tha

thi tumhaare sitam ki taab us tak
sabr jo yaa aziz koi tha

shab ko us ka khayal tha dil mein
ghar mein mehmaan aziz koi tha

chaah beja na thi zulekha ki
maah-e-kanaan aziz koi tha

ab to us ki gali mein khaar hai lek
meer be-jaan aziz koi tha

शब था नालाँ अज़ीज़ कोई था
मुर्ग़-ए-ख़ुश-ख़्वाँ अज़ीज़ कोई था

थी तुम्हारे सितम की ताब उस तक
सब्र जो याँ अज़ीज़ कोई था

शब को उस का ख़याल था दिल में
घर में मेहमाँ अज़ीज़ कोई था

चाह बेजा न थी ज़ुलेख़ा की
माह-ए-कनआँ अज़ीज़ कोई था

अब तो उस की गली में ख़ार है लेक
'मीर' बे-जाँ अज़ीज़ कोई था

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Jafa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Jafa Shayari Shayari