kya kahiye kya rakhen hain ham tujh se yaar khwaahish | क्या कहिए क्या रक्खें हैं हम तुझ से यार ख़्वाहिश - Meer Taqi Meer

kya kahiye kya rakhen hain ham tujh se yaar khwaahish
yak jaan o sad tamannaa yak dil hazaar khwaahish

le haath mein qafas tuk sayyaad chal chaman tak
muddat se hai hamein bhi sair-e-bahaar khwaahish

ne kuchh gunah hai dil ka ne jurm-e-chashm is mein
rakhti hai ham ko itna be-ikhtiyaar khwaahish

haalaanki umr saari mayus guzri tis par
kya kya rakhen hain us ke ummeed-waar khwaahish

ghairat se dosti ki kis kis se ho dj dushman
rakhta hai yaari hi ki saara dayaar khwaahish

ham mehr o raz kyun kar khaali hon aarzoo se
sheva yahi tamannaa fan o shiaar khwaahish

uthati hai mauj har yak aaghosh hi ki soorat
dariya ko hai ye kis ka bos o kanaar khwaahish

sad rang jalva-gar hai har jaada ghairat gul
aashiq ki ek paave kyun kar qaraar khwaahish

yak baar bar na aaye us se ummeed dil ki
izhaar karte kab tak yun baar baar khwaahish

karte hain sab tamannaa par meer jee na itni
rakkhegi maar tum ko paayaan-e-kaar khwaahish

क्या कहिए क्या रक्खें हैं हम तुझ से यार ख़्वाहिश
यक जान ओ सद तमन्ना यक दिल हज़ार ख़्वाहिश

ले हाथ में क़फ़स टुक सय्याद चल चमन तक
मुद्दत से है हमें भी सैर-ए-बहार ख़्वाहिश

ने कुछ गुनह है दिल का ने जुर्म-ए-चश्म इस में
रखती है हम को इतना बे-इख़्तियार ख़्वाहिश

हालाँकि उम्र सारी मायूस गुज़री तिस पर
क्या क्या रखें हैं उस के उम्मीद-वार ख़्वाहिश

ग़ैरत से दोस्ती की किस किस से हो जे दुश्मन
रखता है यारी ही की सारा दयार ख़्वाहिश

हम मेहर ओ रज़ क्यूँ कर ख़ाली हों आरज़ू से
शेवा यही तमन्ना फ़न ओ शिआर ख़्वाहिश

उठती है मौज हर यक आग़ोश ही की सूरत
दरिया को है ये किस का बोस ओ कनार ख़्वाहिश

सद रंग जल्वा-गर है हर जादा ग़ैरत गुल
आशिक़ की एक पावे क्यूँ कर क़रार ख़्वाहिश

यक बार बर न आए उस से उम्मीद दिल की
इज़हार करते कब तक यूँ बार बार ख़्वाहिश

करते हैं सब तमन्ना पर 'मीर' जी न इतनी
रक्खेगी मार तुम को पायान-ए-कार ख़्वाहिश

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari