kare kya ki dil bhi to majboor hai | करे क्या कि दिल भी तो मजबूर है - Meer Taqi Meer

kare kya ki dil bhi to majboor hai
zameen sakht hai aasmaan door hai

jarras-e-raah mein jumla-tan shor hai
magar qafile se koi door hai

tamanna-e-dil ke liye jaan di
saleeqa hamaara to mashhoor hai

na ho kis tarah fikr anjaam car
bharosa hai jis par so maghroor hai

palak ki syaahi mein hai vo nigaah
kaso ka magar khoon manzoor hai

dil apna nihaayat hai nazuk-mizaj
gira gar ye sheesha to phir choor hai

kahi jo tasalli hua ho ye dil
wahi be-qaraari b-dastoor hai

na dekha ki lohoo thamba ho kabhu
magar chashm-e-khoon-baar naasoor hai

tanik garm tu sang-reze ko dekh
nihaan us mein bhi shola-e-toor hai

bahut sai kariye to mar rahiye meer
bas apna to itna hi maqdoor hai

करे क्या कि दिल भी तो मजबूर है
ज़मीं सख़्त है आसमाँ दूर है

जरस-ए-राह में जुमला-तन शोर है
मगर क़ाफ़िले से कोई दूर है

तमन्ना-ए-दिल के लिए जान दी
सलीक़ा हमारा तो मशहूर है

न हो किस तरह फ़िक्र अंजाम कार
भरोसा है जिस पर सो मग़रूर है

पलक की स्याही में है वो निगाह
कसो का मगर ख़ून मंज़ूर है

दिल अपना निहायत है नाज़ुक-मिज़ाज
गिरा गर ये शीशा तो फिर चूर है

कहीं जो तसल्ली हुआ हो ये दिल
वही बे-क़रारी ब-दस्तूर है

न देखा कि लोहू थंबा हो कभू
मगर चश्म-ए-ख़ूँ-बार नासूर है

तनिक गर्म तू संग-रेज़े को देख
निहाँ उस में भी शोला-ए-तूर है

बहुत सई करिए तो मर रहिए 'मीर'
बस अपना तो इतना ही मक़्दूर है

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Aasra Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Aasra Shayari Shayari