shab sham'a par patang ke aane ko ishq hai | शब शम्अ' पर पतंग के आने को इश्क़ है - Meer Taqi Meer

shab sham'a par patang ke aane ko ishq hai
us dil-jale ke taab ke laane ko ishq hai

sar maar maar sang se mardaana jee diya
farhaad ke jahaan se jaane ko ishq hai

uthiyo samajh ke ja se ki maanind-e-gard-baad
aawaargi se teri zamaane ko ishq hai

bas ai sipahr sai se teri to roz-o-shab
yaa gham sataane ko hai jalane ko ishq hai

baithi jo tegh-e-yaar to sab tujh ko kha gai
ai seene tere zakham uthaane ko ishq hai

ik dam mein tu ne phoonk diya do-jahaan ke teen
ai ishq tere aag lagaane ko ishq hai

sauda ho tab ho meer ko to kariye kuchh ilaaj
us tere dekhne ke deewane ko ishq hai

शब शम्अ' पर पतंग के आने को इश्क़ है
उस दिल-जले के ताब के लाने को इश्क़ है

सर मार मार संग से मर्दाना जी दिया
फ़रहाद के जहान से जाने को इश्क़ है

उठियो समझ के जा से कि मानिंद-ए-गर्द-बाद
आवारगी से तेरी ज़माने को इश्क़ है

बस ऐ सिपहर सई से तेरी तो रोज़-ओ-शब
याँ ग़म सताने को है जलाने को इश्क़ है

बैठी जो तेग़-ए-यार तो सब तुझ को खा गई
ऐ सीने तेरे ज़ख़्म उठाने को इश्क़ है

इक दम में तू ने फूँक दिया दो-जहाँ के तीं
ऐ इश्क़ तेरे आग लगाने को इश्क़ है

सौदा हो तब हो 'मीर' को तो करिए कुछ इलाज
उस तेरे देखने के दिवाने को इश्क़ है

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari