ham hain majrooh maajra hai ye | हम हैं मजरूह माजरा है ये - Meer Taqi Meer

ham hain majrooh maajra hai ye
vo namak chhidke hai maza hai ye

aag the ibtida-e-ishq mein ham
ab jo hain khaak intiha hai ye

bood aadam numood shabnam hai
ek do dam mein phir hua hai ye

shukr us ki jafaa ka ho na saka
dil se apne hamein gila hai ye

shor se apne hashr hai parda
yun nahin jaanta ki kiya hai ye

bas hua naaz ho chuka aghmaaz
har ghadi ham se kiya ada hai ye

nashein uthati hain aaj yaaron ki
aan baitho to khushnuma hai ye

dekh be-dam mujhe laga kehne
hai to murda sa par bala hai ye

main to chup hoon vo hont chaate hai
kya kahoon reejhne ki ja hai ye

hai re begaangi kabhu un ne
na kaha ye ki aashna hai ye

teg par haath dam-b-dam kab tak
ik laga chak ki muddaa hai ye

meer ko kyun na mughtanim jaane
agle logon mein ik raha hai ye

हम हैं मजरूह माजरा है ये
वो नमक छिड़के है मज़ा है ये

आग थे इब्तिदा-ए-इश्क़ में हम
अब जो हैं ख़ाक इंतिहा है ये

बूद आदम नुमूद शबनम है
एक दो दम में फिर हुआ है ये

शुक्र उस की जफ़ा का हो न सका
दिल से अपने हमें गिला है ये

शोर से अपने हश्र है पर्दा
यूँ नहीं जानता कि किया है ये

बस हुआ नाज़ हो चुका अग़माज़
हर घड़ी हम से किया अदा है ये

नाशें उठती हैं आज यारों की
आन बैठो तो ख़ुशनुमा है ये

देख बे-दम मुझे लगा कहने
है तो मुर्दा सा पर बला है ये

मैं तो चुप हूँ वो होंट चाटे है
क्या कहूँ रीझने की जा है ये

है रे बेगानगी कभू उन ने
न कहा ये कि आश्ना है ये

तेग़ पर हाथ दम-ब-दम कब तक
इक लगा चक कि मुद्दआ' है ये

'मीर' को क्यूँ न मुग़्तनिम जाने
अगले लोगों में इक रहा है ये

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Adaa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Adaa Shayari Shayari