kali kahte hain us ka sa dehan hai | कली कहते हैं उस का सा दहन है - Meer Taqi Meer

kali kahte hain us ka sa dehan hai
suna kariye ki ye bhi ik sukhun hai

tapakte dard hain aansu ki jaaga
ilaahi chashm ya zakhm-e-kuhan hai

khabar le peer-e-kan'aan ki ki kuchh aaj
nipt aawaara boo-e-pairhan hai

nahin daaman mein lala be-sutoon ke
koi dil-e-daag khoon-e-kohkan hai

shahaadat-gaah hai baagh-e-zamaana
ki har gul us mein ik khooni-kafan hai

karoon kya hasrat-e-gul ko vagarna
dil par daagh bhi apna chaman hai

jo de aaraam tak aawaargi meer
to shaam-e-ghurbat ik subh-e-watan hai

कली कहते हैं उस का सा दहन है
सुना करिए कि ये भी इक सुख़न है

टपकते दर्द हैं आँसू की जागा
इलाही चश्म या ज़ख़्म-ए-कुहन है

ख़बर ले पीर-ए-कनआँ' की कि कुछ आज
निपट आवारा बू-ए-पैरहन है

नहीं दामन में लाला बे-सुतूँ के
कोई दिल-ए-दाग़ ख़ून-ए-कोहकन है

शहादत-गाह है बाग़-ए-ज़माना
कि हर गुल उस में इक ख़ूनीं-कफ़न है

करूँ क्या हसरत-ए-गुल को वगर्ना
दिल पर दाग़ भी अपना चमन है

जो दे आराम टक आवारगी 'मीर'
तो शाम-ए-ग़ुर्बत इक सुब्ह-ए-वतन है

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Nature Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Nature Shayari Shayari