na gaya khayaal-e-zulf-e-siyah jafa-shaaraan | न गया ख़याल-ए-ज़ुल्फ़-ए-सियह जफ़ा-शआराँ - Meer Taqi Meer

na gaya khayaal-e-zulf-e-siyah jafa-shaaraan
na hua ki subh hove shab-e-teera rozgaaraan

na kaha tha ai rafoogar tire taanke honge dhīle
na siya gaya ye aakhir dil-e-chaak-e-be-qaraaraan

hui eed sab ne pahne tarab-o-khushi ke jaame
na hua ki ham bhi badlen ye libaas-e-sogwaaraan

khatra azeem mein hain meri aah-o-ashk se sab
ki jahaan rah chuka phir jo yahi hai baad-o-baraan

kahi khaak-e-koo ko us ki tu saba na deejyo jumbish
ki bhare hain is zameen mein jigar jigar-figaaraan

rakhe taaj-e-zar ko sar par chaman zamaana mein gil
na shagufta ho tu itna ki khizaan hai ye bahaaraan

nahin tujh ko chashm-e-ibrat ye numood mein hai warna
ki gaye hain khaak mein mil kai tujh se taaj-daaraan

tu jahaan se dil utha yaa nahin rasm-e-dardmandi
kisi ne bhi yun na poocha hue khaak yaa hazaaraan

ye ajal se jee chhupaana mera aashkaar haiga
ki kharab hoga mujh bin gham-e-ishq gul-azaaraan

ye suna tha meer ham ne ki fasana khwaab la hai
tiri sar-guzasht sun kar gaye aur khwaab yaaraan

न गया ख़याल-ए-ज़ुल्फ़-ए-सियह जफ़ा-शआराँ
न हुआ कि सुब्ह होवे शब-ए-तीरा रोज़गाराँ

न कहा था ऐ रफ़ूगर तिरे टाँके होंगे ढीले
न सिया गया ये आख़िर दिल-ए-चाक-ए-बे-क़राराँ

हुई ईद सब ने पहने तरब-ओ-ख़ुशी के जामे
न हुआ कि हम भी बदलें ये लिबास-ए-सोगवाराँ

ख़तर अज़ीम में हैं मिरी आह-ओ-अश्क से सब
कि जहान रह चुका फिर जो यही है बाद-ओ-बाराँ

कहीं ख़ाक-ए-कू को उस की तू सबा न दीजो जुम्बिश
कि भरे हैं इस ज़मीं में जिगर जिगर-फ़िगाराँ

रखे ताज-ए-ज़र को सर पर चमन ज़माना में गिल
न शगुफ़्ता हो तू इतना कि ख़िज़ाँ है ये बहाराँ

नहीं तुझ को चश्म-ए-इबरत ये नुमूद में है वर्ना
कि गए हैं ख़ाक में मिल कई तुझ से ताज-दाराँ

तू जहाँ से दिल उठा याँ नहीं रस्म-ए-दर्दमंदी
किसी ने भी यूँ न पूछा हुए ख़ाक याँ हज़ाराँ

ये अजल से जी छुपाना मिरा आश्कार हैगा
कि ख़राब होगा मुझ बिन ग़म-ए-इश्क़ गुल-अज़ाराँ

ये सुना था 'मीर' हम ने कि फ़साना ख़्वाब ला है
तिरी सर-गुज़श्त सुन कर गए और ख़्वाब याराँ

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Fantasy Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Fantasy Shayari Shayari