jaan-gudaaz itni kahaan aavaaz-e-ood-o-chang hai | जाँ-गुदाज़ इतनी कहाँ आवाज़-ए-ऊद-ओ-चंग है - Meer Taqi Meer

jaan-gudaaz itni kahaan aavaaz-e-ood-o-chang hai
dil ke se naalon ka un pardo mein kuchh aahang hai

roo-o-khaal-o-zulf hi hain sumbul-o-sabza-o-gul
aankhen hoon to ye chaman aaina-e-nairang hai

be-sutoon khode se kiya aakhir hue sab kaar-e-ishq
b'ad-azaan ai kohkan sar hai tira aur sang hai

aah un khush-qaamaton ko kyoonke bar mein laiye
jin ke haathon se qayamat par bhi arsa-e-tang hai

ishq mein vo ghar hai apna jis mein se majnoon ye ek
na-khalf saare qabeele ka hamaare nang hai

chashm-e-kam se dekh mat qumri to us khush-qad ko tak
aah bhi sard gulistaan shikast-e-rang hai

ham se to jaaya nahin jaata ki yaksar dil mein waan
do-qadam us ki gali ki raah sau farsang hai

ek bose par to ki hai sulh par ai zood ranj
tujh ko mujh ko itni itni baat oopar jang hai

paanv mein chot aane ke pyaare bahaane jaane de
pesha-raft aage hamaare kab ye uzr lang hai

fikr ko naazuk khayaalon ke kahaan pahunchen hain yaar
warna har misra yahan ma'shooq shokh-o-shang hai

sarsari kuchh sun liya phir waah-wa kar uth gaye
she'r ye kam-fahm samjhe hain khayal bang hai

sabr bhi kariye bala par meer'-saahib jee kabhu
jab na tab rona hi kudhna ye bhi koi dhang hai

जाँ-गुदाज़ इतनी कहाँ आवाज़-ए-ऊद-ओ-चंग है
दिल के से नालों का उन पर्दों में कुछ आहंग है

रू-ओ-ख़ाल-ओ-ज़ुल्फ़ ही हैं सुंबुल-ओ-सब्ज़ा-ओ-गुल
आँखें हूँ तो ये चमन आईना-ए-नैरंग है

बे-सुतूँ खोदे से किया आख़िर हुए सब कार-ए-इश्क़
ब'अद-अज़ाँ ऐ कोहकन सर है तिरा और संग है

आह उन ख़ुश-क़ामतों को क्यूँके बर में लाइए
जिन के हाथों से क़यामत पर भी अर्सा-ए-तंग है

इश्क़ में वो घर है अपना जिस में से मजनूँ ये एक
ना-ख़लफ़ सारे क़बीले का हमारे नंग है

चश्म-ए-कम से देख मत क़ुमरी तो उस ख़ुश-क़द को टक
आह भी सर्द गुलिस्ताँ शिकस्त-ए-रंग है

हम से तो जाया नहीं जाता कि यकसर दिल में वाँ
दो-क़दम उस की गली की राह सौ फ़रसंग है

एक बोसे पर तो की है सुल्ह पर ऐ ज़ूद रंज
तुझ को मुझ को इतनी इतनी बात ऊपर जंग है

पाँव में चोट आने के प्यारे बहाने जाने दे
पेश-रफ़्त आगे हमारे कब ये उज़्र लंग है

फ़िक्र को नाज़ुक ख़यालों के कहाँ पहुँचे हैं यार
वर्ना हर मिस्रा यहाँ मा'शूक़ शोख़-ओ-शंग है

सरसरी कुछ सुन लिया फिर वाह-वा कर उठ गए
शे'र ये कम-फ़हम समझे हैं ख़याल बंग है

सब्र भी करिए बला पर 'मीर'-साहिब जी कभू
जब न तब रोना ही कुढ़ना ये भी कोई ढंग है

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Dushmani Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Dushmani Shayari Shayari