shash-jihat se is mein zalim boo-e-khoon ki raah hai | शश-जिहत से इस में ज़ालिम बू-ए-ख़ूँ की राह है - Meer Taqi Meer

shash-jihat se is mein zalim boo-e-khoon ki raah hai
tera koocha ham se tu kah kis ki bismil-gaah hai

ek nibhane ka nahin mizgaan talak bojhal hain sab
kaarwaan lakht-e-dil-e-har-ashk ke hamraah hai

ham jawaanon ko na chhodaa us se sab pakde gaye
ye do-saala dukhtar-e-raz kis qadar shattaah hai

pa-barhana khaak sar mein moo pareshaan seena chaak
haal mera dekhne aa tere hi dil-khwaah hai

is junoon par meer koi bhi phire hai shehar mein
jaada-e-sehra se kar saazish jo tujh se raah hai

शश-जिहत से इस में ज़ालिम बू-ए-ख़ूँ की राह है
तेरा कूचा हम से तू कह किस की बिस्मिल-गाह है

एक निभने का नहीं मिज़्गाँ तलक बोझल हैं सब
कारवाँ लख़्त-ए-दिल-ए-हर-अश्क के हमराह है

हम जवानों को न छोड़ा उस से सब पकड़े गए
ये दो-साला दुख़्तर-ए-रज़ किस क़दर शत्ताह है

पा-बरहना ख़ाक सर में मू परेशाँ सीना चाक
हाल मेरा देखने आ तेरे ही दिल-ख़्वाह है

इस जुनूँ पर 'मीर' कोई भी फिरे है शहर में
जादा-ए-सहरा से कर साज़िश जो तुझ से राह है

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Diwangi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Diwangi Shayari Shayari